Live Tv

Wednesday ,20 Nov 2019

राज्य

खबर

यादव कुल में एकता के अंकुर की अकुलाहट

पूरे देश में चल रही मोदी की आंधी का असर कहे या लोकसभा चुनाव के बाद बसपा सुप्रीमों मायावती से मिले कड़वे सबक का नतीजा कि अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और संप्रग अध्यक्ष शिवपाल यादव को फिर पारिवारिक एकता याद आने लगी है. कल तक एक-दूसरे को फूंटी आंख न सुहाने वाले चाचा-भतीजे को एक बार फिर परिवार की एकता की फिक्र होने लगी है.चाचा शिवपाल ने जहां मैनपुरी में कहा कि कुछ षड़यंत्रकारी लोग परिवार की एकता में बाधक है और उनकी तरफ से सुलह की पूरी गुंजाइश है. तो इधर लखनऊ में भतीजे अखिलेश ने भी चाचा को निराश नहीं किया. अखिलेश ने कहा कि सबके लिए दरवाजे खुले है, जो आना चाहे, आ सकता है. आंख बंद करके पार्टी में शामिल कर लेंगे.

दरअसल पूरे देश में चल रही बीजेपी की प्रचंड आंधी का मुकाबला करने के लिए अब विपक्षी दलों ने अपनी रणनीतियां बदलनी शुरू कर दी है. यूपी में आगामी विधानसभा उपचुनाव और 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए ही अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल ने एक बार फिर साथ आने के संकेत दिए है. लोकसभा चुनाव के बाद अखिलेश यादव और शिवपाल यादव दोनों के सामने अपने-अपने राजनीतिक अस्तित्व को बचाए रखने की चुनौती है. यही वजह है कि दोनों के बीच जमी कड़वाहट की बर्फ पिघलनी शुरू हो गई है. हालांकि खुलकर न तो अखिलेश यादव ने शिवपाल यादव का नाम लिया और न ही शिवपाल ने षड्यंत्रकारी के तौर पर किसी का नाम लिया. ऐसे में अब देखना यह है कि क्या चाचा-भतीजे अपने-अपने सारे गिले शिकवे भुलाकर एक होंगे? या नहीं.

कानपुर से ऋषभ कांत छाबड़ा की रिपोर्ट

...

KNEWS !1 month ago

खबर

कौन होगा सबसे बड़ा लड़ईया?

लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन और कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा हो रहा है कि वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को कौन चुनौती देगा? इसकी वजह ये है कि लोकसभा चुनाव में 64 सीटें जीतने वाली बीजेपी का वोट प्रतिशत करीब 50 फीसदी है. जबकि बसपा के खाते में 10 सीटें आई है और उसका वोट प्रतिशत 19.3 है. वहीं, पांच सीटें जीतने वाली सपा को 17 फीसदी वोट मिले हैं. एक सीटों पर सिमटी कांग्रेस का वोट प्रतिशत 6 फीसदी है. तीनों पार्टियों के वोट प्रतिशत को मिला भी लें तो बीजेपी के को मिले वोट प्रतिशत से काफी दूर नजर आते हैं. बीजेपी का मजबूत संगठन और शानदार बूथ मैनेजमेंट ने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के जातिगत अंकगणित को लोकसभा चुनाव में चारों खाने चित कर दिया. इतना ही नहीं तीनों ही पार्टियां अपने पारम्परिक वोट बैंक को बचाए रखने में भी नाकामयाब रही हैं. बीजेपी द्वारा विपक्षी दलों के कोर वोटबैंक में सेंधमारी तीनों ही पार्टियों के लिए चिंता का विषय है और चिंतन का भी.

हालांकि लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद अभी यह कहना कि आगामी विधानसभा चुनाव में सपा-बसपा और कांग्रेस अपने मतभेदों को भुलाकर एक साथ आएंगे बहुत जल्दबाजी होगी. इसकी वजह यह है कि तीनों ही दलों की अपनी-अपनी मजबूरियां हैं. चुनाव जीतने के अलावा पार्टी के वोटबैंक को बचाए रखना भी एक अहम मुद्दा है. लोकसभा चुनाव में यह देखने को मिला कि सपा-बसपा इस बात को लेकर असमंजस में थे कि वे बीजेपी से लड़ रहे हैं या कांग्रेस से या फिर दोनों से.

इसी तरह कांग्रेस भी उत्तर प्रदेश में पिछले 30 सालों से अपनी खोई जड़ें तलाश रही है और हर चुनाव के बाद उसका प्रदर्शन गिर रहा है. 1989 के बाद से कांग्रेस यूपी की सत्ता से दूर है.  कमजोर संगठन और जमीन से जुड़े नेताओं की कमी कांग्रेस को बहुत ज्यादा खल रही है. हालांकि बसपा और सपा के पास आज भी अपना कोर वोटबैंक है, लेकिन कांग्रेस के सामने सबसे बड़ी समस्या यह है कि उसके पास फिलहाल कोई वोटबैंक नहीं है जो पार्टी की मदद कर सके.इस बार राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में उतारकर कार्यकर्ताओं में जोश फूंकने की कोशिश जरूर की लेकिन परिणाम उत्साहवर्धक नहीं रहा. यहां तक की पार्टी अपनी पारम्परिक सीट अमेठी भी हार गई. कांग्रेस यूपी में महज एक सीट जीतने में कामयाब रही. ऐसे में अपनी जमीन खो चुकी सपा-बसपा समेत कांग्रेस में से 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को कौन देगा चुनौती ?

...

KNEWS !1 month ago

खबर

नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत जुर्माने में 50 फीसदी कटौती

केंद्र सरकार के नए मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर भारत के कई जगहों पर विरोध किया जा रहा है. अब इस एक्ट में उत्तराखंड सरकार ने आंशिक संशोधन किया है. राज्य सरकार ने केंद्र के नए मोटर व्हीकल एक्ट के कुछ नियमों की जुर्माना राशि में करीब 50 फीसदी तक की कटौती की है. वहीं कुछ नियमों में जुर्माना राशि में कोई बदलाव नहीं किया गया है. उत्तराखंड में नए नियम कुछ संशोधन के साथ लागू किए जाएंगे. धारा 177 के मुताबिक भारत सरकार के नए कानूनों के प्रावधानों के मुताबिक ही राज्य सरकार जुर्माना वसूलेगी...

अपराधों के लिए जुर्माने में संशोधन नहीं किया गया है. वहीं बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाने पर जुर्माने की राशि 5000 की जगह घटाकर 2500 रुपये कर दी गई है.देहरादून में किसी भी गाड़ी को मॉडिफाई करने पर 5000 रुपये का जुर्मान लगाया जाएगा, वहीं गलत नंबर प्लेट लगाने पर भी 5000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. ओवर स्पीडिंग करने पर 2000 रुपये का जुर्माना देना होगा, वहीं गलत तरीके से गाड़ी चलाने पर 2000 रुपये का जुर्माना देना होगा.

अब देखना होगा कि उत्तराखंड सरकार द्वारा वाहन चालकों को दी गई राहत कहां तक सफल होती है....और लोग इस राहत का गलत फायदा तो नहीं उठाएंगे....

...

KNEWS !2 months ago

खबर

ऐसा बदलाव जिसकी कल्पना तक नहीं !

अगर इंसान के मन में कुछ करने का जज्बा हो और मंजिल को पाने की चाह हो तो कोई भी राह मुश्किल नही होती....क्यूंकि इसको सही साबित कर दिखाया है मुरादाबाद के गांव लालपुर गंगबारी के रहने वाले स्कूल संचालक शिक्षक मोहम्मद जावेद ने जिनके एक अनूठे प्रयास के चलते गाँव के ज्यादातर निरक्षर बुजुर्ग साक्षर हो रहे है.. आखिर शिक्षक ने गाँव मे ये मुहिम क्यों शुरू की और इसके पीछे क्या कारण रहे आपको यह भी बताते है....

शिक्षक मोहम्मद जावेद मुरादाबाद में अपने गांव लालपुर गंगवारी में एक स्कूल चलाते है..उन्हें पढ़ने वाले वाले बच्चों को लेकर एक परेशानी सामने आई कि स्कूल के बच्चों को जब होमवर्क दिया जाता था... तो बच्चे कभी होमवर्क करके ही नही लाते थे... फिर क्या था... इसका जब उन्होंने कारण खोजना शुरू किया तो पता चला कि गाँव के अधिकतर बुजुर्ग और परिजन निरक्षर है... जिस कारण बच्चे अपना होमवर्क पूरा नही कर पाते थे.... फिर क्या था बुलंद हौसले वाले जावेद ने गाँव मे नई मुहिम की शुरुआत की... जहां... गाँव के निरक्षर बुजुर्गों को साक्षर करने का बीड़ा उठा लिया...और इनकी शुरुआत अपने ही स्कूल में बुजुर्गों के लिये विशेष कक्षाएं संचालित कराकर शुरू की..और बच्चों के साथ घर की महिलायें को भी पढ़ाना और शिक्षा के लिए समझाना शुरू कर दिया..

इतना ही नही स्कूल के बच्चों से भी निरक्षर दादी-दादा मम्मी-पापा को घर पर भी पढ़ाने को कहा गया...स्कूल के बच्चों ने भी इस काम मे अपनी दिलचस्पी दिखाते हुये हर रोज घर पर होमवर्क करने के दौरान अपनी कॉपी किताबों से ही दादा-दादी मम्मी-पापा को पढ़ाना शुरू किया...वहीं अब बह अपनी इस मुहिम से अपने इलाके अन्य विद्यालयों को जोड़ने की तैयारी कर रहे हैं...

कुछ समय के बाद ऐसे बदलाव आए जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी,,,, स्कूल के बच्चों को अब ना सिर्फ अपने बुजुर्ग दादी-दादा सहित परिवार को पढ़ाने में मजा आ रहा है... वहीं बुजुर्ग भी क्लास में अपने बच्चों के साथ बेझिझक होकर शिक्षा ले रहे है.

लालपुर गंगवारी की महिला ग्राम प्रधान भी इस मुहीम का हिस्सा हैं जो पहले निरक्षर थीं और इसी स्कूल में बच्चों के बीच बैठकर परीक्षा भी पास की है...जिनका कहना है कि बदलाव आ गया....कुछ समय के बाद अब ऐसे बदलाव आ गए हैं...  जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी.. जो निरक्षर थे वो अब साक्षर हो गए हैं... दिन ब दिन लोग आगे बढ़ रहे हैं...और इस मुहिम का हिस्सा बन रहे हैं..

...

KNEWS !2 months ago

खबर

बीमार पोते को पीठ पर लाद कर अस्पताल ले गया बुजुर्ग ?

योगी सरकार भले ही रोगियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं देने का दावा करे..पर गाहे बगाहे इसकी पोल खुल ही जाती है..सरकार है.सरकारी सिस्टम है..जो कुछ है. बस चलने दो ... काम तो होते ही रहते है..लापरवाही तो सामने आती ही रहती है,उसमें क्या है.ये सब तो चलता रहता है.अधिकारी मस्त हैं.मौज में हैं.जो कुछ है झेलना तो आम आदमी को ही है..

जी हां. एक वृद्ध दादा अपने बीमार पोते को पीठ पर लादकर ले जाना पड़ता है बुलंदशहर में खबर सरकारी सिस्टम पर तमाचा मार रही है... वृद्ध दादा का आरोप है कि अस्पताल के गेट पर उसे स्ट्रेचर नहीं मिला. इसीलिए मजबूर होकर कमर पर ही लादकर अस्पताल में लाना पड़ा..इसके बावजूद मौके पर कोई डॉक्टर भी मौजूद नहीं मिले...काफी देर तक इंतजार करने के बाद भी इलाज नहीं मिला...

इस खबर ने खुर्जा के सरकारी अस्पताल में मिलने वाली सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की पोल खोल कर रख दी है..अस्पताल में पर्याप्त मात्रा में स्ट्रेचर होने के बाद भी ये देखने को मिला..खुर्जा के सीएमएस को अस्पताल एवं इमरजेंसी के गेट पर स्टेचर सहित वार्ड बॉय तैनात रखने के निर्देश देने का दावा किया जा रहा है....फिलहाल मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.. अब ऐसे में देखना होगा क्या कुछ कार्रवाई की जाएगी...

...

KNEWS !2 months ago

खबर

सुप्रीम कोर्ट का 'सुप्रीम' आदेश, फुटपाथ हों खाली

फुटपाथ पर अतिक्रमण और बदहाल पार्किंग व्यवस्था को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भी सख्त रुख अपना लिया है. साथ ही ये भी कहा कि फुटपाथ पैदल चलने वालों के लिए बने हैं न कि दुकानदारों और पार्किंग के लिए बताते चलें कि राजधानी में फुटपाथ पर अतिक्रमण व बदहाल पार्किंग व्यवस्था को लेकर को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 15 दिन में अतिक्रमण हटाया जाना चाहिए. साथ ही राजधानी में पार्किंग व्यवस्था में सुधार के लिए अदालत ने एक माह के भीतर नियम लागू किया जाए. सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए यह भी कहा कि सरकारें और संबंधित एजेंसियां आम लोगों को सार्वजनिक परिवहन मुहैया कराने में विफल रही हैं, जिसके कारण पार्किंग की समस्या बढ़ी है.

वाहनों की बढ़ती संख्या से प्रदूषण और पार्किंग की समस्या बढ़ी है. सिर्फ पार्किंग की बात करें तो समस्या बढ़ती जा रही है. लोगों के चलने के लिए बने फुटपाथ पर गाड़ियां खड़ी रहती हैं. पड़ोसी से पार्किंग को लेकर रोज झगड़ा होता है. यूनिवर्सिटी, स्कूल, अस्पताल या अदालत जैसे संस्थान जब बनाए जाते हैं, तो पार्किंग की तरफ ध्यान कम ही दिया जाता है. जो पहले एक फ्लोर का घर था उस घर में एक गाड़ी होती थी. अब घर आठ फ्लोर का हो गया है और गाड़ियों की संख्या 16 हो गई है लेकिन पार्किंग की जगह कहां है? जिन घरों में पहले गैराज बना था. अब उसे कमरे में तब्दील कर दिया गया है और गाड़ियां सड़क पर खड़ी की जा रही हैं. इस व्यवस्था में सुधार की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- उद्योगों पर गिरी बिजली की गाज

सभी निगम और कैंट बोर्ड तय करें कि सभी फुटपाथ से अतिक्रमण हटाया जाए. फुटपाथ पैदल चलने वालों के लिए बने हैं और उनपर किसी तरह का अतिक्रमण नहीं होना चाहिए.  जिसने भी फुटपाथ पर कब्जा कर रखा है. उसे 15 दिन का नोटिस देकर अतिक्रमण हटाने को कहा जाए यदि ऐसा नहीं होता है, तो निगम खुद कब्जा हटाए और इसका खर्च अतिक्रमण करने वाले से वसूला जाए. देखा जाए तो देश के 80 प्रतिशत फुटपाथ पर है कहीं दुकानदारों का तो कहीं पार्किंग का कब्जा है. दिल्ली में अतिक्रमण पर डंडा चलाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त हो चुकी है. जिसे देखते हुए सबसे बड़ा सवाल यही उठता है कि क्या पूरे देश की सड़कों पर चलना चाहिए अतिक्रमण पर डंडा? बार-बार बढ़ते अतिक्रमण का आखिर कौन है जिम्मेदार?

कानपुर से नीतिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट

...

KNEWS !2 months ago

खबर

उत्तर प्रदेश में शिक्षा की बदलती तस्वीर

यूपी के सरकारी स्कूलों की स्थिति को सुधारने के लिए प्रदेश सरकार ने कई अहम फैसले लिए हैं. सरकार ने बच्चों के कल को बेहतर बनाने के लिए एक और सफल प्रयास किया है. बसपा और समाजवादी पार्टी की पिछली सरकारों में शिक्षा का स्तर काफी गिर गया है लेकिन जो सराहनीय कदम प्रदेश सरकार उठा रही है. उस कदम से स्कूलों के साथ-साथ बच्चों के भविष्य में भी सुधार होगा.

ये भी पढ़ें- किसके मुसलमान?

यूपी सरकार ने शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के 49 शिक्षकों  को ‘राज्य शिक्षक पुरस्कार’ से सम्मानित किया. इस मौके पर प्रेरणा एप का लोकार्पण भी किया गया. जिसकी मदद से विद्यार्थियों व शिक्षकों की उपस्थिति से लेकर मिड डे मील पर नजर रखी जाएगी.सरकार का संकल्प है कि अगले ढाई वर्ष में प्रदेश की बेसिक शिक्षा को इस स्तर तह पहुंचाया जाए कि कार्यकाल के बाद देश और विदेश से लोग यूपी की बेसिक शिक्षा पर शोध और अध्ययन करने यूपी आएं.

बता दें कि पहली बार वित्तविहीन शिक्षको को भी सम्मानित किया गया. शिक्षिकों के आवास भत्तों की समस्या भी जल्द ही खत्म हो जाएगी. सरकार ने विभाग में अब तक भी ट्रांसफर किये वो पारदर्शी रहे हैं और शिकायत भी नहीं आयी.जो अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है..जिसमें से एक उपलब्धि नकलविहीन परीक्षा भी है एक बड़ी उपलब्धि बन कर सामने आई है , जिसमे अन्य प्रदेश इस पर शोध कर रहे है.

ये भी पढ़ें- 'कश्मीर ही नहीं, POK भी हमारा है'

आज अध्यापको का ट्रांसफर ऑन लाइन हो रहा है. मोबाइल पर अध्यापक आवेदन करते है और उनके मोबाइल पर ट्रांसफर का एसएमएस चला जाता है.विभाग  में करीब 2800 ट्रांसफर हुए है किसी पर उंगली नही उठी है.जिसका आज परिणाम भी काफी सकारात्मक और सुखद हैं.

देखा जाए तो शिक्षा के क्षेत्र में यूपी सरकार ने हर मुमकिन कोशिशें की हैं. जिससे शिक्षा की तस्वीर में बदलाव आ सके.अगर हम बात करें किताबों के दाम की तो ncrt की किताबो से लगभग 66% up बोर्ड की किताबें सस्ती हैं. साथ ही सरकार ने निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूलने पर भी शिकंजा कसा है. ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि अब यूपी की शिक्षा की तस्वीर में बदलाव आ चूका है जो सराहनीय है और गर्व से भर देने वाली है.

...

KNEWS !2 months ago

खबर

स्कूल में बच्चों की मुश्किल में जान !

सीतापुर : रिकॉर्ड तोड़ बारिश ने अपना कहर मचा रखा है,.... सीतापुर में नेपाल से छोड़े गए पानी से एक फिर शारदा नदी उफान पर है..... उफनाई शारदा नदी ने अपना विकराल रूप धारण करना शुरू कर दिया है..... बाढ़ का कहर ऐसा कि पूरे के पूरे गांव जलमग्न हो गए..... लोग जब सुबह सो कर उठे तो हर ओर अगर कुछ दिखाई दे रहा था तो वह सिर्फ बाढ़ का पानी...

इतना ही नही गांव में बाढ़ का पानी घुसने से स्कूल भी तालाब में तब्दील हो गया.... मोदी और योगी सरकार की योजनाओं का हुक्मरानों पर असर नहीं दिखता है...यहीं कारण है की हुक्मरानों की लापरवाही के चलते,,... स्कूल में  बच्चे घुटनों तक भरे पानी से होकर स्कूल पहुंच रहे हैं... ऐसे में बच्चों के भविष्य भी अंधकार में जा रहा है... रिकॉर्ड तोड़ बारिश ने किसानों की भी कमर तोड़ दी है..... बारिश से फसलें जलमग्न हो गई है.....

हालांकि यहां पढ़ाई होना भी अब नामुमकिन है...वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि 4 दिनों से प्रशासन द्वारा इन दोनों गांवों की सुध नही ली गयी... जिससे करीब 500 की आबादी प्रभावित है.....

ये पढ़े भाजपा के दामाद की दबंगई

वहीं इस मामले पर डीएम अखिलेश तिवारी का कहना है कि शारदा व घाघरा नदी में नेपाल से पानी छोड़ा गया है.. जिससे यह पानी भरा है....स्कूल में पानी भर जाता है अब ऐसे में सवाल उठता है... कि आखिर कैसे इस देश का भविष्य आगे बढ़ेगा.... इस मामले में क्या कुछ कार्रवाई होती है,, ये देखने वाली बात होगी... 

                                                                कानपुर से ऋषभ कांत छाबड़ा 

...

KNEWS !2 months ago

खबर

भाजपा के दामाद की दबंगई

बुलन्दशहर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भले ही सांसदों और विधायकों को अपने रिश्तेदरों को मर्यादा में रखने और दबंगई न कराने के निर्देश दे रखें हो, लेकिन जमीनी हकिकत तो कुछ और ही बयां कर रही है....आपको बता दे कि यूपी के बुलन्दशहर में के चांदपुर की भाजपा विधायक के दामाद की दबंगई का एक वीडियों सामने आया है, जिसमें विधायक का दामाद पड़ोसी पेट्रोल पम्प संचालक को जमकर पी रहा है..... 

बिजनौर के चांदपुर की भाजपा विधायक कमलेश सैनी और स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ इस तस्वीर में बैठा दिख रहा ये शख्स है चांदपुर विधायक का दामाद अशोक सैनी, जो बुलन्दशहर के खुर्जा में रहता है... जो इस वायरल वीडियों में अपने भाईयों व साथियों के साथ पडोसी पम्प संचालक शलभ पांण्डेय को खुले आम धमकी देकर मारपीट कर रहा है...

यही नही मारपीट करने वालों के हाथों में डण्डे व एक के हाथ में रायफल भी दिख रही है.... दरअसल खुर्जा में रविवार को आईओसी के पम्प संचालक के पेट्रोल पम्प पर गैस भरवाने के लिए लगी वाहनों की लम्बी लाइन को लेकर भाजपा विधायक कमलेश सैनी के दामाद और शलभ पांण्डेय में विवाद बढ गया..... आरोप है कि विधायक के दामाद ने अपने भाईयों व साथियों के साथ मिलकर शलभ पांण्डेय की लाठी व रायफल की बटों से पीटाई कर दी....

ये पढ़े : 

जिसे पीडित व अन्य लोगो ने कैमरें में कैद कर वायरल कर दिया......पीडित पम्प संचालक ने बताया कि चांदपुर की भाजपा विधायक, बुलन्दशहर पुलिस पर आरोपियों की गिरफ्तारी न होने और कार्रवाई न करने को लेकर दवाब बनाये हुए है.....जिसके बाद पीडित ने यूपी के सीएम से न्याय और कार्रवाई की गुहार लगायी है.....

 

तो वहीं दूसरी ओर पुलिस का कहना है कि उन्होनें चांदपुर की भाजपा विधायक के दामाद कर दबंगई का वीडियों वायरल होने के बाद पुलिस ने विधायक के आरोपी दामाद और उसके 3 भाईयों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज तो कर ली है और नियमानुसार कार्रवाई भी कर रही है..... साथ ही पुलिस अधिकारी ने बताया कि बुलन्दशहर पुलिस भाजपा विधायक के दवाब में नही है.... साथ ही वो वायरल वीडियों की जांच कर उक्त कार्रवाई भी करेंगी

 

                                                              कानपुर से ऋषभ कांत छाबड़ा 

...

KNEWS !2 months ago

खबर

संभल अस्पताल को शर्मसार कर रही ये तस्वीर

संभल :  एक बार फिर जिला अस्पताल में मानवता को शर्मसार करने वाली तस्वीर सामने आई है....साहब....अरे ओ साहब....गुस्सा तो बहुत है.... लेकिन क्या करूं अब मैं..... किस्मत को दोष दूं....या सरकार की योजनाओं को....समझ नहीं आ रहा...  देखिए साहब... मेरी बीवी को फर्श पर लिटाया हुआ है... देखिए,.इन तस्वीरों में देखिए....क्या करूं साहब...अस्पताल के सीएमस साहब और डॉक्टरों को कुछ देखता नहीं है,, देखकर भी अंजान बन जाते हैं... 

 

संभल में एक बार फिर जिला अस्पताल में मानवता को शर्मसार करने वाली तस्वीर सामने आई है.... जहां.... डिलीवरी के बाद प्रसूता को अस्पताल से बाहर निकाल दिया गया,.... सुविधा शुल्क नहीं देने के आरोप में महिला को  स्टाफ ने बाहर निकाल दिया..... तस्वीरों में आप साफ देख सकते हैं...कि किस तरह से नवजात बच्चे के साथ अस्पताल के फर्श पर महिला लेटी हुई है.... महिला के पास सिर्फ उसका पति मौजूद है....

ये पढ़े : हनुमान हैं नाम महान

यहां तक की सीएमएस की आंखों के सामने प्रसूता फर्श पर लेटी हुई है... लेकिन स्टाफ और सीएमएस को ये सब नहीं दिखता है...वहीं पति ने आरोप लगाय़ा की.... डिलीवरी कराने के नाम पर एक हजार रूपए हड़प लिए... और एंबुलेंस के नाम पर भी अवैध शुल्क वसूल लिए,...लेकिन अब जो असुविधा हुई है,.,... उसके लिए क्या कहूं... सुविधा शुल्क नहीं देने पर महिला को घर नहीं भेजा है.... अब ऐसे में देखना होगा... इस घटना पर क्या कुछ कार्रवाई होती है....

 

                                                                              कानपुर से ऋषभ कांत छाबड़ा 

...

KNEWS !2 months ago

मुख्य ख़बरे

रेप केस से बरी चर्चित IPS अमिताभ ठाकुर...

उत्पल कुमार सिंह होंगे राज्य के नए मुख्य सचिव ...

रोहित शेखर मर्डर केस में पत्नी अपूर्वा के फ़ोन से मिले अहम सुराग ...

महिला शोषण की जाँच पर डीआईजी की कुंडली ...

आईटीबीपी के जवान की संग्दिध परिस्थितियों में मौत...

पंचपुरी हलवाई समाज कल्याण समिति के महासभा का आयोजन ...

जोश-ए-जवानी

भारत में ऐसे लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जिनमें सेक्स के प्रति इच्छा में कमी देखी जा रही है और ज्यादातर लोग अपराधबोध की वजह से इस बारे में खुलकर बात भी नहीं कर पाते हैं लेकिन क्या आप जानते है कैसे सेक्स आपकी कैलोरी बर्न करने में मदद करता है, दरअसल कुछ वक्त पहले एक स्टडी सामने आई थी, जिसमें कहा गया कि सेक्स से कैलोरी बर्न करने में मदद मिलती