Live Tv

Sunday ,15 Dec 2019

आजम खान पर एफआईआर दर्ज, जयाप्रदा पर दिया था विवादित बयान

VIEW

Reported by Knews

Updated: Apr 15-2019 01:21:44pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, राष्ट्रीय महिला आयोग,यूपी , रामपुर , जयाप्रदा , up, sp, bjp, congress, election 2019, ajam khan, khjanm jayaprada, mayawati,

यूपी के रामपुर लोकसभा सीट से सपा के उम्मीदवार आजम खान का विवादित बयान एक बार फिर सुराखियों में है। आजम खान ने रामपुर में जनसभा को संबोधित करते हुए बीजेपी की उम्मीदवार जयाप्रदा को लेकर विवादित बयान दिया है। जिसके बाद से ही उनकी चोरों तरफ से आलोचना की जा रही है और अब उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है तो वहीं महिला आयोग ने भी आजम खान के विवादित बयान को लेकर नोटिस भेज दिया है हालंकि इस बयान में आजम खान ने किसी का नाम नहीं लिया है लेकिन कहा जा रहा है कि उनका इशारा जयाप्रदा के तरफ ही था। 

क्या है विवादित बयान

आजम खान ने रामपुर में जनसभा को सबोंधित करते हुए कहा की, "मैं सवाल करता हूं कि क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी। 10 बरस जिसने रामपुर के लोगों का लहू पिया, जिसकी उंगली पकड़कर हम रामपुर लेकर आए। रामपुर की गलियां और सड़कों की पहचान कराई। उसके शरीर से किसी का कंधा नहीं लगने दिया, आप गवाही दोगे। छूने नहीं दिया, गंदी बात नहीं करने दी। आपने 10 साल अपना प्रतिनिधित्व कराया। लेकिन आप और मुझमें क्या फर्क है। रामपुर वालो, उत्तरप्रदेश और हिंदुस्तान वालो, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए, मैं 17 दिन में पहचान गया। इनके नीचे का अंडरवियर खाकी रंग का है।

आजम खान की सफाई

 आजम खान ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि मैने किसी का नाम नहीं लिया है अगर में दोषी पाया जाता हुं तो लोकसभा चुनाव 2019 से अपना नाम वापस ले लूंगा। मुझे पता है कि क्या बोलना है और क्या नहीं। आजम ने मीडिया पर भी सवाल खड़े किए कि उनका बयान गलता तरीके से दिखाय गया ये लोकतंत्र देश के लिए सही नहीं है।

राष्ट्रीय महिला आयोग की कारवाई

राष्ट्रीय महिला आयोग ने आजम के विवादित बयान को लेकर  उन्हें नोटिस भेज दिया है राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि ''हमने मामले में चुनाव आयोग को भी पत्र लिखकर कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है ताकि उन्हें सबक मिले। चुनाव के समय यह सब बंद होना चाहिए। महिला केवल उपभोग के लिए नहीं है। महिला वोटरों को इस तरह के बयान देने वालों के खिलाफ मतदान करना चाहिए।"