Live Tv

Wednesday ,26 Jun 2019

चुनाव आयोग अब तक की सबसे बड़ी कारवाई, योगी-मायावती पर चुनाव प्रचार पर लगाया बैन

VIEW

Reported by Knews

Updated: Apr 16-2019 10:41:18am
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,चुनाव आयोग, आजम खान ,मेनका , योगी ,  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, अदित्यानाथगांधी,मायावती m,  सोशल मीडिया ,बजरंगबली, अली-अली ,

नेताओं के दिन बे दिन बढ़ती बदजुबानी को लेकर चुनाव आयोग ने अब सख्त रूख अपना लिया है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के स्टार प्रचारक पर चुनाव आयोग ने 72 घटें के लिए चुनाव प्रचार पर बैन लगाया है. तो वहीं बसपा की प्रमुख मायावती को भी चुनाव आयोग की सख्ती का सामना करना पड़ा है मायावती पर 48 घटें के लिए चुनाव प्रचार पर बैन लगाया गया है. 

चुनाव आयोग ने यूपी के 4 बड़े नेताओं पर चुनाव प्रचार पर बैन लगाया है जिसमें योगी आदित्यनाथ, मायावती, आजम खान, और मेनका गांधी हैं. लोकसभा चुनाव के दूसरा चरण में यूपी की 8 सीटों पर मतदान होना है ऐसे में अपनी पार्टी के लिए प्रचार ना कर पाना इन नेताओं को बड़ी परेशानी में डाल सकता है. चुनाव प्रचार बैन के दौरान ना तो नेता किसी भी जनसभा को सबोधिंत कर सकते है ना ही सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर पाएंगे और ना ही किसी को इंटरव्यू दे पाएंगे. चुनाव आयोग का एक्शन 16 अप्रैल सुबह 6 बजे शुरू होगा. 

इन विवादित बयानों ने लगवाय बैन

योगी अदित्यानाथ - जब गठबंधन के नेताओं को अली पर विश्वास है और वह अली-अली कर रहे हैं, तो हम भी बजरंगबली के अनुयायी हैं और हमें बजरंगबली पर विश्वास है उन्हें अली पसंद है हमें बजरंगबली है.

मायावती - मैं मुस्लिम समाज के लोगों से कहना चाहती हूं कि कांग्रेस बीजेपी को टक्कर नहीं दे सकती है, सिर्फ महागठबंधन ही उन्हें हरा सकता है इसलिए मुस्लिम समाज अपना वोट हमे दे आखिरी समय पर वोट बदल ना ले.

आजम खान - जिसकी उंगली पकड़कर हम रामपुर लेकर आए. रामपुर की गलियां और सड़कों की पहचान कराई. उसके शरीर से किसी का कंधा नहीं लगने दिया, आप गवाही दोगे। छूने नहीं दिया, गंदी बात नहीं करने दी. लेकिन आप और मुझमें क्या फर्क है. रामपुर वालो, उत्तरप्रदेश और हिंदुस्तान वालो, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए, मैं 17 दिन में पहचान गया इनके नीचे का अंडरवियर खाकी रंग का है.

मेनका गांधी -  मैं लोगों के प्यार और सहयोग से जीत रही हूं लेकिन अगर मेरी यह जीत मुसलमानों के बिना होगी तो मुझे बहुत अच्छा नहीं लगेगा. बीजेपी नेता ने कहा कि इतना मैं बता देती हूं कि फिर दिल खट्टा हो जाता है. फिर जब मुसलमान आता है काम के लिये, फिर मै सोचती हूं कि नहीं रहने ही दो क्या फर्क पड़ता है