Live Tv

Wednesday ,20 Nov 2019

इसरो का संकटमोचक बनेगा ऑर्बिटर

VIEW

Reported by Knews

Updated: Sep 10-2019 04:08:14pm
ISRO chandryan 2 orbiter

देश के महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को लेकर उम्मीदें अभी कम नहीं हुई हैं.. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के वैज्ञानिकों के मुताबिक, चांद की सतह पर मौजूद विक्रम सही सलामत है और वह क्षतिग्रस्त नहीं हुआ है. पर वह सतह पर एक तरफ झुका हुआ पड़ा है. साथ ही वैज्ञानिको का कहना है कि हम विक्रम से संपर्क करने की लगातार हरसंभव कोशिश कर रहे हैं. जिसके चलते अभी हमने उम्मीद नहीं छोड़ी है. चांद की सतह से महज 2.1 किमी दूर रहने के दौरान ही लापता विक्रम को इसरो ने एक दिन पहले ही खोज निकाला था. विक्रम को सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी, मगर उसे हार्ड लैंडिंग का शिकार होना पड़ा..

वहीं, इसरो के एक वैज्ञानिक ने कहा, चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर में लगे कैमरे ने जो तस्वीरें भेजी हैं, उससे यह पता चला है कि विक्रम की हार्ड लैंडिंग हुई थी. पर इससे विक्रम में कोई टूट-फूट नहीं हुई है. मेरा मानना है कि विक्रम से अभी भी संपर्क हो सकता है. साथ ही साथ विक्रम के जीवन में फिर से वसंत आ सकता है. इसकी संभावना खारिज नहीं की जा सकती है. उन्होंने यह भी कहा कि हर चीज की अपनी सीमाएं होती हैं. विक्रम की स्थिति पहले जैसी ही बनी हुई है. उससे संपर्क करना बेहद मुश्किल होता जा रहा है. उम्मीद कम होती जा रही है. अगर इसने सॉफ्ट लैंडिंग की होती तो इसकी सारी प्रणाली कार्य कर रही होतीं. तो ऐसी स्थिति में तब हम इससे आसानी से संपर्क कर सकते थे. हालांकि, इसकी अब तक की स्थिति अच्छी है. साथ ही अगर विक्रम का एंटीना ग्राउंड स्टेशन या फिर ऑर्बिटर की ओर होगा तो उससे संपर्क की उम्मीद बढ़ सकती है.

इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि चांद के आसमान में चक्कर काट रहे चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर एजेंसी के लिए संकटमोचक जैसा है.. ऑर्बिटर में इतना ईंधन है कि वह निर्बाध गति से अपने काम को सात साल तक बखूबी अंजाम देता रहेगा. एजेंसी के वैज्ञानिक अब ऑर्बिटर के पहले से तय एक साल के कार्यकाल को बढ़ाकर सात साल तक करने जा रहे हैं, जिससे मिशन के बाकी उद्देश्यों को पूरा किया जा सके। यह चंद्रमा के वजूद और उसके विकास के बारे में हमारी समझ को बढ़ाने में मददगार साबित होगा। ऑर्बिटर पर लगा हाई रिजोल्यूशन वाला कैमरा किसी भी चंद्र मिशन में लगने वाले कैमरों में सबसे बड़ा (0.3 मीटर) है. .