Live Tv

Saturday ,19 Oct 2019

शारदा घोटाला: ममता के करीबी राजीव को झटका, SC ने गिरफ्तारी से हटाई रोक

VIEW

Reported by Knews

Updated: May 17-2019 01:14:31pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,  big breaking news,  kolkata supreme court rajeev kumar sharada chit fund scam, rajeev kumar, mamta banerjee, sharda chit fund scam, CBI, supreme court, giraftari se hat rok, rajeev kumar arrested, narendra modi, west bengal, BJP< election, election 2019

सुप्रीम कोर्ट ने शारदा चिटफंड मामले में कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार की गिरफ्तारी पर लगी रोक हटा दी है। कोर्ट ने कहा कि आज का आदेश 7 दिन बाद से लागू होगा, तब राजीव कुमार की गिरफ्तारी होगी। उसके बाद सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार कर सकती है। इस दौरान वे अग्रिम जमानत की अर्जी किसी अन्य कोर्ट में दायर कर सकते हैं। 


शारदा चिटफंड घोटाले को लेकर सीबीआई के घेरे में थे राजीव कुमार

शारदा चिटफंड घोटाले में कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार सीबीआई के निशाने पर लगातार चल रहे हैं। दरअसल, राजीव कुमार ने ही चिटफंड घोटालों की जांच करने वाली एसआईटी टीम की अगुआई की थी। 

पूरी खबर पढ़े....प्रज्ञा ठाकुर का कमल हासन को जवाब नाथूराम को आतंकी कहने वाले अपने गिरेबां में झांककर देखें

घोटाले की जांच से जुड़ी कुछ अहम फाइल और दस्तावेज गायब हैं। सीबीआई गायब फाइलों और दस्तावेजों को लेकर पुलिस कमिश्नर से पूछताछ करना चाहती है। सीबीआई ने राजीव कुमार पर सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का भी आरोप लगाया था। इस मामले में राजीव के अलावा पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव और डीजीपी ने हलफनामा देकर कहा था कि जांच एजेंसी के आरोप निराधार हैं। 

सीबीआई ने की थी गिरफ्तारी की मांग 

मामले के सुप्रीम कोर्ट पहुंचने के बाद सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी थी कि राजीव शारदा मामले से जुड़े सबूतों को नष्ट करने की कोशिश में थे। जांच एजेंसी ने याचिका में कहा था कि इस विवाद को सुलझाने और शारदा ग्रुप के निदेशकों और नेताओं के संबंधों का पता लगाने के लिए कुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ करना जरूरी है। जबकि राजीव की दलील है कि घोटाले से जुड़ा कोई भी साक्ष्य सीधे उनकी निगरानी में नहीं था। सुप्रीम कोर्ट की अनुमति मिलने के बाद सीबीआई ने राजीव कुमार से शिलांग में पूछताछ की थी। 

राजीव कुमार को बचाने के लिए धरने पर बैठी थीं ममता

सीबीआई की टीम 3 फरवरी को उनके घर पर पूछताछ के लिए पहुंची थी। इस दौरान पुलिस ने सीबीआई अफसरों को हिरासत में ले लिया था। ममता सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में धरने पर बैठी थीं। इस मामले में सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने और ईमानदारी से जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया था।