Live Tv

Sunday ,22 Sep 2019

उद्योगों पर गिरी बिजली की गाज

VIEW

Reported by Knews

Updated: Sep 11-2019 04:11:24pm

एक कहावत है कि एक तो करेला ऊपर से नीम चढ़ा यानि करेला तो वैसे ही कड़वा होता है ऊपर से नीम पर चढ़ने की वजह से और भी कषैला हो गया. कुल मिलाकर यही स्थिति उद्योगों की भी हो गई है. पहले से ही मंदी की मार झेल रहे उद्योगों पर अब  बिजली का 440 बोल्ट का झटका लग गया है. दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से उद्योगों को जोर का झटका लगा है.औद्योगिक इलाकों में बिजली की दरों में 5 से 10 फीसदी इजाफा किया गया है.

ये भी पढ़ें- 'कश्मीर ही नहीं, POK भी हमारा है'

यूपी में बीजेपी सरकार ने  बिजली की दरें अचानक बढ़ा दीं.रोचक है कि आम उपभोक्ताओं के लिए बिजली 12 फीसदी महंगी हुई है, औद्योगिक उपभोक्ताओं के लिए भी वृद्धि की गई है उत्तर प्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने नई बिजली दरें जारी कर दीं.दो वर्षों बाद फिर से बिजली उपभोक्ताओं पर महंगी दरों का बोझ डाल दिया गया.आखिरी बार बिजली दरें वर्ष 2017 में बढ़ाई गई थीं.

मंदी की मार झेल रहे उद्योग पहले से ही मर रहे हैं. जिसके बाद अब सरकार ने एक और 440 वोल्ट का तगड़ा झटका दे दिया है. हमारे देश की अर्थव्यवस्था उद्योगों के कंधे पर ही है. लेकिन उस कंधे पर इस समय चारों तरफ से बोझ घटने की जगह बढ़ता जा रहा है. उद्योगों की बिजली पांच से 10 फीसद तक महंगी की गई है. उद्योगों की बिजली पहले से ही काफी महंगी होने और मंदी के असर को देखते हुए आयोग ने छोटे व मझोले उद्योगों की बिजली दरों में इजाफे से मुश्किलें बढ़ा दी हैं.

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में शिक्षा की बदलती तस्वीर

बता दें इससे पहले योगी सरकार ने साल 2017 में बिजली की दरों में करीब 12.73 फीसद का इजाफा किया था. इसके पीछे सरकार का तर्क है कि बिजली कंपनियों के व्यय और लागत में बढ़ोतरी हुई है और राजस्व में कमी आई है. वहीं ओद्योगिक उपभोक्ताओं में पांच से 10 फीसदी दाम बढ़ाए गए हैं. इन्हें अब प्रति यूनिट 45 पैसे अधिक देने होंगे. देश के ओद्योगिक क्षेत्र पहले से ही मंदी की मार झेल रहे हैं. ऐसे में बिजली दरों में वृद्धि से उद्योगों को 440 वोल्ट का तगड़ा झटका जरूर लगा है और ये झटका देश की अर्थव्यवस्था को या तो पटरी पर ला सकता है या उतार सकता है.

कानपुर से नीतिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट