Live Tv

Wednesday ,20 Nov 2019

बैंकों का विलयकरण, क्या सुधरेगी अर्थव्यवस्था?

VIEW

Reported by Knews

Updated: Sep 10-2019 04:09:44pm

जीडीपी ग्रोथ रेट बढ़ाने और पांच ट्रिलियन डालर की इकोनॉमी बनने की तरफ बड़ा कदम उठाते हुए सरकार ने दस सरकारी बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाने का ऐलान पहले ही कर दिया था. केंद्र के इस कदम के बाद सरकारी बैंक घटकर 12 रह जाएंगे जबकि 2017 में इनकी संख्या 27 थी. सरकार के इस बड़े ऐलान के बाद अब यूपी सरकार भी कुछ बड़ा करने के मूड में है.

केंद्र सरकार की तर्ज पर अब यूपी सरकार भी 35 सहकारी बैंकों का विलय कर एक बैंक बनाने की तैयारी में है. बता दें बीते कुछ दिनों में एकेडेमिक टेक्निकल कमेटी के सदस्यों के बीच विलय के बिंदुओं पर सहमति बन गई है. जल्द ही यह मसौदा सरकार के पास भेजा जाएगा. कमेटी ने मर्जर किए जाने वाले सभी सहकारी बैंकों की बैलेंस सीट पर गहन मंथन किया. विलय के बाद नये बैंक का स्वरूप क्या होगा, इसकी रूपरेखा भी तय की गई है.

ये पढ़ें- मॉब लिंचिंग पर मुआवजा

बैंको का विलय कर एक नया सहकारी बैंक बनाने की राह में सबसे बड़ी बाधा इन बैंकों का करीब 3000 करोड़ रुपये का घाटा है. सूत्रों की मानें तो प्रदेश सरकार ने इस घाटे की भरपाई का भरोसा दिया है. विलय के मसौदे का अध्ययन शासन स्तर पर प्रमुख सचिव सहकारिता कर रहे हैं... इनकी संस्तुति के पश्चात मसौदा सरकार के पास विचार के लिए भेजा जाएगा. ऐसे में जनता को कितना फायदा होगा और कितना नुक्सान. इसका जवाब भी सिर्फ और सिर्फ जनता ही देगी.क्या इस फैसले से सुधरेगी अर्थव्यवस्था?. क्या बैंकों के विलयकरण ने संभलेंगे हालात ?

कानपुर से नीतिका श्रीवास्तव की रिपोर्ट