Live Tv

Wednesday ,21 Aug 2019

मऊ में पीएम मोदी ने कहा 'देखते हैं आज दीदी बंगाल में रैली होने देती हैं या नहीं'

VIEW

Reported by Knews

Updated: May 16-2019 12:25:40pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,  big breaking news, pm modi campaign in mau loksabha election twenty nineteen, मऊ में पीएम मोदी ने कहा 'देखते हैं आज दीदी बंगाल में रैली होने देती हैं या नहीं', mamata banerjee, pm modi, narendra modi, BJP, TMC, INC, electin, loksabha election, electio 2019, bengal election, modi in bengal, modi in au

लोकसभा चुनाव 2019 में आखिरी चरण में पूर्वी उत्तर प्रदेश में भाजपा के माहौल को और मजबूत करने भाजपा के सुपर स्टार प्रचारक पीएम मोदी मऊ पहुंचे। जहाँ जन सभा को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने सांसद हरि नारायण राजभर के समर्थन में भाजपा विजय संकल्प रैली में महागठबंधन के साथ कांग्रेस पर भी जमकर हमला बोला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा ने जाति के आधार पर एक अवसरवादी गठबंधन करने की कोशिश की। इनके बीच लखनऊ में एसी कमरे में बैठकर ऊपर-ऊपर से तो डील हो गई, लेकिन जमीन से कटे हुए नेता यहां पर अपने कार्यकर्ताओं को ही भूल गए। देश इन महामिलावटी दलों की सच्चाई पहले दिन से जानता है। पीएम मोदी ने कहा कि देश को पता है कि मोदी हटाओ का नारा तो बहाना था। असल में इन्हें अपने भ्रष्टाचार के पाप को छुपाना था। यह लोग जैसे तैसे कोशिश कर रहे थे कि देश में खिचड़ी सरकार बन जाए।

पूरी खबर पढ़े....World Cup 2019: कोहली और धोनी नहीं इन खिलाडियों की वजह से जीतेगी टीम इंडिया

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बहन जी ने पश्चिम बंगाल को लेकर मुझ पर निशाना साधा है। चुनाव आयोग को आडे हाथों लिया है। ममता दीदी वहां यूपी बिहार के लोगों पर निशाना साध रही है। बहन मायावती इस पर ममता को कुछ कहने के बजाय कुर्सी का खेल खेलना है। यूपी में सभा के बाद बंगाल जाने वाला हूं। बंगाल की मुख्यमंत्री मुझे पीएम नहीं मानती हैं। वो पाकिस्तान के पीएम को पीएम मानती हैं। आज मैं बंगाल जा रहा हूं तो देश को बताता हूं कि मिदनापुर में मेरी रैली थी तो वहां किस तरह की अराजकता फैलाई गई। मुझे अपना संबोधन बीच में छोडकर मंच से हट जाना पडा था।

मोदी हटाओ का नारा तो बहाना है

सपा बसपा कार्यकर्ता आज भी एक दूसरे पर हमला कर रहे हैं। सपा बसपा ने सोचा एक दूसरे को वोट ट्रांसफर होगा। लेकिन कुछ जातियों को अपना गुलाम समझ लिया था। अब 2019 में उप्र इन दोनों को ठीक से समझाने जा रहा है कि जातियां आपकी गुलाम नहीं हैं। लोग समझते हैं कि वोट विकास के लिए दिया जाता है इन लोगों ने जाति के नाम पर सिर्फ सत्ता हासिल की और उपयोग अपने लिए बंगले बनाने में रिश्ते दारों को करोड़पति अरबपति बनाने में किया।