Live Tv

Friday ,20 Sep 2019

राहुल ने सुप्रीम कोर्ट में "चौकीदार चोर है" बयान पर जताया खेद, कहा उत्तेजना में दिया बयान

VIEW

Reported by Knews

Updated: Apr 22-2019 01:14:44pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,  big breaking news,  rahul gandhi feels guilty for commenting chowkidaar chor hai in supreme court, rahul gandhi is guilty for giving false comment on chowkidaar chor hai, rahul gandhi, congress, BJP, narendra modi, elction 2019, loksabh aelection, chunaav aayog

राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट में 23 अप्रैल को सुनवाई है। सुनवाई से एक दिन पहले राहुल गांधी ने सोमवार को जवाब दिया है। राहुल ने पीएम मोदी को चोर कहने पर खेद जताया है। राहुल के खिलाफ दायर अवमानना याचिका पर सोमवार को राहुल की ओर से कहा गया कि हां मैं मानता हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने कभी नहीं कहा चौकीदार चोर है। मेरी ओर से यह बयान चुनाव प्रचार के दौरान उत्तेजना में दिया गया था। राहुल ने कहा कि आगे से पब्लिक में कोई भी ऐसी बयानबाजी नहीं करूंगा। जब तक कि कोर्ट में ऐसी बात रिकॉर्ड में न कही गई हो। अंत में राहुल गांधी ने कहा कि मेरे बयानों का राजनीतिक विरोधियों द्वारा दुरुपयोग किया गया है। 

बता दें कि राहुल गांधी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना संबंधी याचिका पर कोर्ट ने राहुल गांधी को 15 अप्रैल को नोटिस जारी किया था। कोर्ट ने राहुल गांधी को 22 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने का कहा था। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने दस अप्रैल को नामांकन के बाद मीडिया के समक्ष राफेल सौदे को लेकर चौकीदार चोर है का बयान दिया था।

पूरी खबर पढ़े....शीला दीक्षित और मनोज तिवारी होंगे आमने-सामने, कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट

राहुल का यह बयान जब सुर्ख़ियों में आया तो भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। लेखी ने कहा था कि चुनावी रैलियों में राहुल गांधी राफेल से जुड़े झूठे बयान देते रहते हैं। हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक चुनावी रैली में कहा था कि, 'अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया है कि चौकीदार चोर है।'

सुप्रीम कोर्ट इससे पहले राफेल मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दे चुका था। कोर्ट ने राफेल विमान की खरीद प्रक्रिया को सही माना था। केन्द्र सरकार को क्लीन चिट दिए जाने के बाद प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका डाली थी। जिसे सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था।