Live Tv

Sunday ,15 Sep 2019

अगर आप भी देते है कैरी बैग के पैसे, तो यें खबर जरूर पढ़े

VIEW

Reported by Knews

Updated: Apr 16-2019 03:09:38pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, chandigarh, punjab, high court, dinesh, bata, bata news,  bjp, congress, app, rjd, modi, yogi, mayawati, election 2019, delhi mumbai, ipl news,  carry bag, bata shoe, shoe ,चंडीगढ़ store,कैरी बैग ,जूता,  बाटा सटोर,उपभोक्ता फोरम,  सुरक्षित ,

अक्सर जब आप शॉपिंग करने शोरूम में जाते हैं तो आपसे कैरी बैग के पैसे भी आपके बिल में जोड़ देते हैं और ना चाहते हुए भी आपको कभी 5, कभी 10 रुपए  देने पड़ते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि कैरी बैग के लिए पैसे देने कि जरुरत होती है ये जिम्मेदारी शोरूम मालिक कि है कि वो आपको कैरी बैग उपलब्ध कराए. चंडीगढ़ में एक ग्राहक कैरी बैग के मुद्दे को लेकर शोरूम मालिक से भिड़ गया.

दरसल, चंडीगढ़ के रहने वाले दिनेश प्रसाद ने बाटा स्टोर से 399 रुपए का जूता लिया लेकन जब उसे बिल मिला तो वो 402 रुपए का था और जब उसने इसके बारे में पूंछ तो पता चला कि 3 रुपए कैरी बैग के भी जोड़ दिए हैं. दिनेश ने कैरी बैग के पैसे देने से मना कर दिया लेकिन शोरूम मालिक नहीं माना और दिनेश को मजबूरन कैरी बैग के भी पैसे देने पड़े.  दिनेश ने तब तो पैसे दे दिए लेकिन उसके बाद वो हारियाण उपभोक्ता फोरम में इसकी शिकायत की.

दिनेश कि शिकायत थी कि बाटा स्टोर कि जिम्मेदारी है कि वो ग्राहक को कैरी बैग उपलब्ध कराए और जो बैग बाटा स्टोर देता है उस पर उसकी कम्पनी का नाम लिखा होता है जिससे उसकी कम्पनी का प्रचार भी होता है. हम कैरी बैग के पैसे भी दै और उनकी कम्पनी का ना चाहते हुए भी प्रचार करते है जो पूरी तरह गलत है.

उपभोक्ता फोरम का फैसला दिनेश के पक्ष में आया और कम्पनी को ग्राहक सेवा ना देने का दोषी पाया. तो वहीं बाटा कम्पनी के वकील ने कहा कि हम कैरी बैग के पैसे इसलिए लेते है ताकि पर्यावरण सुरक्षित रहे क्योंकि इस से कोई प्रदूषण नहीं होता. इसके जवाब में उपभोक्ता फोरम ने कहा कि अगर आप इतनी ही पर्यावरण की चिंता करते है तो आापको फ्री में कैरी बैग देना चाहिए.

उपभोक्ता फोरम ने दिनेश के हक़ में फ़ैसला सुनाया. फोरम ने कहा कि उपभोक्ता से गलत तरीके से 3 रूपये लिए गए हैं और बाटा कंपनी को मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना के लिए दिनेश प्रसाद को 9000 रूपये मुआवजे के तौर पर देने होंगे.