Live Tv

Tuesday ,21 May 2019

तेजबहादुर की आखिरी उम्मीदें भी खत्म, नहीं लड़ सकेंगे अब वाराणसी से मोदी के खिलाफ चुनाव

VIEW

Reported by Knews

Updated: May 09-2019 04:00:57pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,  big breaking news,  tezbahadur last hope got vanished his nomination rejected from varanasi, तेजबहादुर की आखिरी उम्मीदें भी खत्म, नहीं लड़ सकेंगे अब वाराणसी से मोदी के खिलाफ चुनाव, tezbahadur, CRPF suspended soldier, supreme court, narendra modi, varanasi, varansi election, leelction 2019, loksabha election, nomination rejected from varansi, electin commission,

तेज बहादुर यादव के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ने उम्मीदों पर पानी फिर गया है. सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को नामांकन रद्द करने के खिलाफ दायर की गई याचिका को खारिज करते हुए कहा कि उनकी याचिका में कोई मैरिट नहीं है. कोर्ट के इस फैसले से वाराणसी में प्रधानमंत्री मोदी को तगड़ी चुनौती देने की योजना पर महागठबंधन को बड़ा तगड़ा झटका लगा है.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को तेज बहादुर यादव की शिकायत पर सुनवाई करते हुए चुनाव आयोग को निर्देश दिया था कि तेज बहादुर की शिकायत के हर बिंदु पर गौर किया जाए और 9 मई तक कोर्ट में जवाब दाखिल किया जाए. चुनाव आयोग ने पिछले दिनों वाराणसी लोकसभा सीट से तेज बहादुर यादव के नामांकन को रद्द कर दिया था, जिसके खिलाफ तेज बहादुर सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे.

पूरी खबर पढ़े....राहुल को दोहरी नागरिकता विवाद में सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत याचिका हुई खारिज

समाजवादी पार्टी की ओर से नामित और बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव की याचिका पर आज गुरुवार को फिर से सुनवाई हुई. निर्वाचन आयोग की ओर से राकेश द्विवेदी ने अपना पक्ष रखा. इस दौरान उन्होंने आरपी एक्ट सहित पुराने फैसलों का हवाला दिया. साथ ही चुनाव आयोग ने वाराणसी के निर्वाचन अधिकारी के फैसले को सही करार दिया.

19 मई को वाराणसी में मतदान

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान प्रशांत भूषण ने तेज बहादुर की ओर से पक्ष रखते हुए कहा, 'मैंने अपनी बर्खास्तगी का आदेश नामांकन के साथ संलग्न किया था. लेकिन हमें जवाब रखने का पूरा मौका नहीं दिया गया. मैं चुनाव रोकने को नहीं रोक रहा हूं, बस चाहता हूं कि मेरा नाम जोड़ा जाए.' वाराणसी में लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के तहत 19 मई को मतदान होना है.

बीएसएफ में कांस्टेबल रहे तेज बहादुर यादव खाने की क्वालिटी पर सवाल उठाने के बाद चर्चा में आए थे. बाद में बीएसएफ से उन्हें बर्खास्त भी कर दिया गया था. कुछ समय पहले तेज बहादुर ने वाराणसी लोकसभा सीट से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का निर्णय किया. पहले उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन दाखिल किया था, लेकिन बाद में सपा ने उन्हें टिकट दे दिया. हालांकि हलफनामे में जानकारी छुपाने का आरोप लगाते हुए चुनाव अधिकारी ने उनका नामांकन कर दिया.