Live Tv

Friday ,19 Apr 2019

संयुक्त अभियान में विभिन्न कम्पनियों के संगठित नेटवर्क द्वारा करोड़ों की चोरी का पर्दाफाश

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Apr 13-2019 03:27:55pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, The combined campaign of various companies in the joint operation busted the billions of crores

कर अनुसंधान इर्काइ  वाणिज्य कर विभाग उ0प्र0 द्वारा दूरसंचार, डायरेक्ट टू होम(डीटीएच) मल्टी रिचार्ज सर्विस प्रोर्वाइ डर द्वारा की जा रही सर्कुलर टेªडिंग का अध्ययन करने पर पाया गया कि कुछ कम्पनियों द्वारा बोगस इनवाइसिंग करके राज्य सरकार व केन्द्र सरकार को करोड़ों रूपये के राजस्व की क्षति पहुंचाई जा रही है इस सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर उ0प्र0 शासन श्री आलोक सिन्हा के निर्देशानुसार वाणिज्य कर आयुक्त उ0प्र0 श्रीमती अमृता सोनी द्वारा पुलिस महानिरीक्षक एसटीएफ श्री अमिताभ यश एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक सिंह के साथ संयुक्त रूप से विचार विमर्श के उपरान्त यह तय पाया गया कि एसटीएफ उ0प्र0 तथा कर अनुसन्धान इकाई वाणिज्य कर इकाई द्वारा इस प्रोजेक्ट का संयुक्त अध्ययन कर बोगस ट्रेडिंग करने वाले ट्रेडर्स को चिन्हित करके प्रभावी कार्यवाही की जाय।

उल्लेखनीय है कि यह सभी सेवाएं आनलाईन की जा रही हैं, जो भौतिक रूप से दिखाई नहीं देती है और उनको चिन्हित करने के लिए तकनीकी दक्षता की आवश्यकता होती है। इस लिए उत्तर प्रदेश राज्य में प्रथम बार इस प्रकार का संयुक्त अभियान प्रारम्भ किया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ उ0प्र0 के निर्देशानुसार अपर पुलिस अधीक्षक, साईबर अपराध श्रीमती सुनीति को नोडल आफिसर नियुक्त किया गया। पुलिस उपाधीक्षक श्री पी0के0 मिश्र की टीम तथा कर अनुसंधान इकाई के संयुक्त आयुक्त श्री संजय कुमार पाठक की टीम द्वारा पिछले करीब 45 दिन से इस व्यापार माडल का अध्ययन किया गया और पाया गया कि उ0प्र0 की राजधानी लखनऊ के साथ ही साथ प्रतापगढ़, नोएडा, खीरी आदि जनपदों में इस प्रकार की बोगस इनवासिंग कुछ कम्पनियों द्वारा की जा रही है जिन्हे चिन्हित कर भौतिक सत्यापन किया गया।

इस विजनेस माडल का गम्भीरता से अध्ययन करने तथा उनकी तकनीकी पहलुओं पर विचार करने के पश्चात यह निर्णय लिया गया कि सभी सम्बन्धित कम्पनियों पर एक ही दिन एक साथ छापेमारी की कार्यवाही की जाय। इस कार्यवाही के लिए दिनांक 12.04.2019 की तिथि निश्चित की गयी और मुख्यालय लखनऊ के साथ ही साथ प्रतापगढ  एवं नोएडा में छापेमारी के लिए एसटीएफ एवं वाणिज्य कर की संयुक्त टीम पहले से निर्धारित करके उन्हें अच्छी तरह से ब्रीफ कर दिया गया। इस छापेमारी में संयुक्त रूप से 100 से अधिक अधिकारी शामिल रहे। इस पूरी छापेमारी को मुख्यालय तथा बाहर के जनपदों के बीच का समन्यवय पुलिस उपाधीक्षक श्री पी.के मिश्र व संयुक्त आयुक्त श्री संजय कुमार पाठक द्वारा किया गया।

दिनांक 12.04.2019 को एसटीएफ मुख्यालय, फील्ड इकाई नोएडा व प्रयागराज में कुल 05 संयुक्त टीमों ने  10 कम्पनियों पर छापेमारी की कार्यवाही की, जिसमें फील्ड इर्काइ  नोएडा की टीम का नेतृत्व पुलिस उपाधीक्षक श्री राजकुमार मिश्रा व संयुक्त आयुक्त श्री आर0पी0 पाण्डेय तथा फील्ड इर्काइ  प्रयागराज का नेतृत्व श्री नीरज कुमार पाण्डेय व संयुक्त  आयुक्त श्रीमती मोनू त्रिपाठी एवं मुख्यालय लखनऊ स्थित टीमों का नेतृत्व श्री ए0के0 राय अपर आयुक्त वाणिज्य कर, श्री अजय वर्मा  संयुक्त आयुक्त वाणिज्य कर, श्री संतोष कुमार शाहू संयुक्त आयुक्त वाणिज्य कर तथा पुलिस की टीमो का नेतृत्व निरीक्षक श्री विनय कुमार  गौतम, श्री राजेश चंद्र त्रिपाठी, श्री अरूण कुमार सिंह तथा उ0नि0 श्री ज्ञानेन्द्र कुमार राय, द्वारा किया गया। सभी ठिकानों पर एक साथ की गयी छापेमारी लगभग 14 घंटे तक चलती रही।

छापेमारी के दौरान मौके पर की जा रही जांच के दौरान यह पाया गया कि कम्पनियों का इलेक्ट्रानिक डाटा बहुत बड़ी मात्रा में है, जिसका सत्यापन मौके पर नहीं किया जा सकता है तथा इलेक्ट्रानिक फार्म में होने के कारण इस डाटा को कभी भी कम्पनी द्वारा डिलिट कर साक्ष्य मिटाया जा सकता है। इस कारण से पहली बार किसी अभियान के दौरान 06 टीबी इलेक्ट्रानिक डाटा वाणिज्य कर विभाग द्वारा र्साइ बर सेल की मदद से सीज करके कब्ज़े में लिया गया। जांच के दौरान राउण्ड पे ग्रुप गोमतीनगर, ई-मनी इन्दिरानगर, मेसेर्स वेलकम कम्युनिकेशन आलमबाग तथा रवि एण्ड ब्रदर्स पट्टी प्रतापगढ़ की कुल 10 कम्पनियों का डाटा कब्ज़े में लिया गया तथा राउण्ड पे ग्रुप से सम्बन्धित क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर कम्पनी नोएडा से डाटा बैकप भी लिया गया।