Live Tv

Wednesday ,17 Jul 2019

प्रियंका गांधी ने स्वीकार की अपनी हार : सूर्य प्रताप शाही

VIEW

Reported by Knews

Updated: May 07-2019 04:45:53pm
latest news, news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar,  big breaking news, surya pratap shahi, farming minister, up government, mau news, bjp, congress, loksabha election, election news

चुनाव अपने अंतिम दो चरणों में है, लेकिन नेताओं के बीच जुबानी जंग जारी है. उत्तर- प्रदेश सरकार में कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने एक निजी कार्यक्रम के तहत सूबे के मऊ जिले का भ्रमण किया. इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से वार्ता की और विरोधियों पर हमला करते हुए कहा कि प्रियंका गांधी ने खुद ही हार को स्वीकार कर लिया है. 

प्रदेश के कृषि मंत्री ने आगे कहा कि महागठबंधन दहशत और घबराहट में है, इसलिए उनके नेता अनाब- सनाब बक रहे हैं. एक तरीके से कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने खुद ही अपनी हार को स्वीकार कर लिया है. उन्होंने खुद ही कहा है कि वह चुनाव वोट काटने के लिए लड़ रहे हैं. कुल मिलाकर गठबंधन 68 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, जिनमें 37- 37 सीटों पर अलग- अलग चुनाव लड़ा जा रहा है. इसलिए जो मुख्य दावेदार है वो 37 सीटों के आधार पर प्रधानमंत्री नहीं बन सकता.

पिछले 15 सालों में उत्तर- प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी की सरकार रही है. उनकी सरकार में जनता के साथ अन्याय हुआ है. मोदी सरकार और अभी दो साल में योगी सरकार को जनता ने देखा है. प्रदेश और केन्द्र की सरकार ने आम जन मानस को काफी ज्यादा प्रभावित किया है. यह किसी उम्मीदवार का चुनाव नहीं है, यह देश की सरकार बनाने का चुनाव है, प्रधानमंत्री चुनने का चुनाव है. इसलिए देश की आम जनता प्रधानमंत्री मोदी को एक और मौका देने जा रही है.

सूर्य प्रताप शाही ने  आगे कहा कि मोदी जी की ईमानदारी का, उनके द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ उठाए गए कदमों का ही नतीज़ा है कि सरकार ने जो चार हजार रुपये किसान को दिये, वह चार हजार उनके पास पहुंचें. लेकिन राहुल गांधी के स्वर्गीय पिता आदरणीय राजीव गांधी जी जब प्रधानमंत्री थे, तो वो कहते थे कि जब हम 100 रुपया भेजते हैं तो 85 रुपया रास्ते में ही रुक जाता है, 15 ही वहां तक पहुंच पाता है. अब वो 85 रुपया खाने वाले कौन थे, वो काग्रेसी थे, वो काग्रेस के दलाल थे, वे काग्रेस में बैठे सत्ताधारी लोग थे. इसकी वजह से देश हमारा गरीब रहा, हमारा किसान आर्थिक रुप से कमजोर रहा. मोदी और योगी की सरकार के उपायों ने हमारे किसान को मजबूत किया है.