Live Tv

Sunday ,22 Sep 2019

उत्तर प्रदेश में शिक्षा की बदलती तस्वीर

VIEW

Reported by Knews

Updated: Sep 11-2019 04:10:51pm

यूपी के सरकारी स्कूलों की स्थिति को सुधारने के लिए प्रदेश सरकार ने कई अहम फैसले लिए हैं. सरकार ने बच्चों के कल को बेहतर बनाने के लिए एक और सफल प्रयास किया है. बसपा और समाजवादी पार्टी की पिछली सरकारों में शिक्षा का स्तर काफी गिर गया है लेकिन जो सराहनीय कदम प्रदेश सरकार उठा रही है. उस कदम से स्कूलों के साथ-साथ बच्चों के भविष्य में भी सुधार होगा.

ये भी पढ़ें- किसके मुसलमान?

यूपी सरकार ने शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के 49 शिक्षकों  को ‘राज्य शिक्षक पुरस्कार’ से सम्मानित किया. इस मौके पर प्रेरणा एप का लोकार्पण भी किया गया. जिसकी मदद से विद्यार्थियों व शिक्षकों की उपस्थिति से लेकर मिड डे मील पर नजर रखी जाएगी.सरकार का संकल्प है कि अगले ढाई वर्ष में प्रदेश की बेसिक शिक्षा को इस स्तर तह पहुंचाया जाए कि कार्यकाल के बाद देश और विदेश से लोग यूपी की बेसिक शिक्षा पर शोध और अध्ययन करने यूपी आएं.

बता दें कि पहली बार वित्तविहीन शिक्षको को भी सम्मानित किया गया. शिक्षिकों के आवास भत्तों की समस्या भी जल्द ही खत्म हो जाएगी. सरकार ने विभाग में अब तक भी ट्रांसफर किये वो पारदर्शी रहे हैं और शिकायत भी नहीं आयी.जो अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है..जिसमें से एक उपलब्धि नकलविहीन परीक्षा भी है एक बड़ी उपलब्धि बन कर सामने आई है , जिसमे अन्य प्रदेश इस पर शोध कर रहे है.

ये भी पढ़ें- 'कश्मीर ही नहीं, POK भी हमारा है'

आज अध्यापको का ट्रांसफर ऑन लाइन हो रहा है. मोबाइल पर अध्यापक आवेदन करते है और उनके मोबाइल पर ट्रांसफर का एसएमएस चला जाता है.विभाग  में करीब 2800 ट्रांसफर हुए है किसी पर उंगली नही उठी है.जिसका आज परिणाम भी काफी सकारात्मक और सुखद हैं.

देखा जाए तो शिक्षा के क्षेत्र में यूपी सरकार ने हर मुमकिन कोशिशें की हैं. जिससे शिक्षा की तस्वीर में बदलाव आ सके.अगर हम बात करें किताबों के दाम की तो ncrt की किताबो से लगभग 66% up बोर्ड की किताबें सस्ती हैं. साथ ही सरकार ने निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूलने पर भी शिकंजा कसा है. ऐसे में कहना गलत नहीं होगा कि अब यूपी की शिक्षा की तस्वीर में बदलाव आ चूका है जो सराहनीय है और गर्व से भर देने वाली है.