Live Tv

Wednesday ,20 Nov 2019

'GOOD FRIDAY' के दिन ईसा मसीह सूली पर चढ़े थे, फिर क्यों कहा जाता है इसे 'GOOD FRIDAY'

VIEW

Reported by Knews

Updated: Apr 19-2019 10:36:09am
atest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, latewst news, friday, good friday, know about good friday, black friday, great friday jesus, christ ish mashi, christans, good friday full history, ईसा मसीह, ईसा मसीह सूली,गुड फ्राइडे का इतिहास, यरुशलम के गैलिली ,ईसाइयों , ईस्टर संडे, easter sunday,

गुड फ्राइडे(Good Friday) ईसाइयों का एक प्रमुख त्यौहारों में से एक है. गुड फ्राइडे को कई नामों से जान जाता है जैसे बैल्क फाइडे, होली फ्राइडे, ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है, गुड फ्राइडे को 'शोक दिवस' के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन ईसा मसीह सूली पर चढ़े थे फिर क्यो इस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाता है. आईए जानते है, ईसा मसीह को शुक्रवार (FRIDAY) के दिन सूली पर चढ़ाया गया था और इसे 'गुड'(Good) इसलिए कहा जाता है क्योंकि ईसा मसीह ने लोगों की भलाई और उनकी रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया था इसलिए इसे गुड फ्राई़डे कहा जाता है. 

गुड फ्राइडे का इतिहास

दो हजार साल पहले यरुशलम के गैलिली में ईसा मसीह ने शांति, एकता, भाईचारे, मानवता, आंहिसा का उपदेश देते थे. जिससे उनके अनुयायी बढ़ाने लगे लोगों ने उनकी उपदेश को अपने जीवन में उतरान शुरु कर दिया. ईसा मसीह अंधविशवास और कुरीतियों के खिलाफ भी आवाज उठाते थे. लोगों को उनके विचार पंसद आ रहे थे उनकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही थी. लोग उनका समर्थन करने लगे तो वहीं उनका यहूदियों के कट्टरपंथी रब्‍बियों (धर्मगुरुओं) धर्म गुरुओं ने विरोध भी करने लगे. उनहोंने ईसा मसीह को अपना शुत्र मान लिया था तब के रोम के शसक पिलातुस को भड़कना शुरु कर दिया. जिसके बाद ईसा मसीह को सूली पर चढ़ने की सजा का ऐलान कर दिया . जिस दिन ईसा मसीह को क्रॉस पर लटकाया गया था उस दिन फ्राइडे यानी कि शुक्रवार था. तब से उस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाने लगा.

गुड फ्राइडे के तीन दिन बाद ईसा मसीह के फिर से जीवित हो जाने पर ईस्टर संडे मनाया जाता है, जिसमें ईसाई लोग खुशी मनाने के लिए प्रभु भोज में भाग लेते हैं, एक-दूसरे के साथ खुशी मनाते है और एक-दूसरे को अंडे के आकार के तोहफे देते हैं.

कैसे मानते है गुड फ्राईडे 

गुड फ्राइडे के 40 दिन पहले से ही ईसाइयों के घरों में प्रार्थना और उपवास शुरू हो जाते हैं. इस व्रत में शाकाहारी खाना खाया जाता है. गुड फ्राइडे के दिन लोग चर्च जाते हैं और यीशू को याद कर शोक मनाते हैं और  प्रार्थना करते है. इसी के साथ गुड फ्राइडे के दिन ईसा के अंतिम सात वाक्यों की विशेष व्याख्या की जाती है जो क्षमा, मेल-मिलाप, सहायता और त्याग पर केंद्रित होती है.