Live Tv

Sunday ,20 Jan 2019

मनोज तिवारी ने की चाय-पकौड़ा पर चर्चा

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Feb 12-2018 05:58:18pm

नई दिल्ली : उत्तर पूर्वी दिल्लीं के सांसद मनोज तिवारी ने भाजपा कार्यकर्ताओ के साथ यमुना विहार स्थित ली डायमंड में चाय-पकौड़ा पर चर्चा प्रोग्राम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम के माध्यम से बजट पर भी चर्चा की गई। साथ ही छोटे व्यवसाय वालों के व्यवसाय को बढ़ावा देने के उपायों पर भी चर्चा हुई। कार्यक्रम की अगुवाई दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष एंव सांसद मनोज तिवारी ने की।

 

 

कार्यक्रम में शहादरा उत्तरी जॉन उपायुक्त, एसीपी सीलमपुर, मुस्तफाबाद विधायक के साथ दोनों जिले के जिलाध्य़क्ष व सभी भाजपा पदाधिकारी इस चर्चा में शामिल रहे। चाय के बाद आखिरकार पकौड़ा भी सियासत के काम आया। देश में इस वक्‍त 'पकौड़ा' पॉलिटिक्‍स की हर तरफ चर्चा हो रही है।

 

 

सत्‍ता पक्ष और विपक्ष इस पर नोकझोंक कर रहे हैं। कोई इसको रोज़गार से जोड़कर देख रहा है, तो कोई इसके माध्‍यम से सत्‍ता पक्ष पर तंज कस रहा है। कई राजनेता तो ऐसे हैं, जो सत्‍ता पक्ष का विरोध करने के लिए सड़कों पर पकौड़े तलते देखे गए हैं। जो भी हो बेचारे पकौड़े को भी आखिरकार चाय पर चर्चा के बाद तवज्‍जो मिली। 

 

ये पढ़े : जूता चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, कोई हताहत नहीं

 

इसके भी दिन बदले और आखिरकार सियासत के काम आया वैसे भी चाय के साथ पकौड़े या पकौड़ी का जबर्दस्‍त कॉबीनेशन बनता है। इसका चाय पे चर्चा के बीच पीछे छूटना सियासत को भा नहीं रहा था, इसलिए इसको भी सियासी मेन्‍यू में शामिल कर लिया गया। भाजापा द्धारा चाय-पकौडा पर चर्चा के दौरान हुई चाय-पकौडा की दावत हुई जिसमें भाजपा के कार्यकर्ता एक-दूसरे को पकौड़ा दे रहे थे और खा रहे थे।

 

इस प्रोग्राम में चाय के साथ-साथ पकौड़ो का भी खास इंतिज़ाम था, इस प्रोग्राम के माध्यम से लघु उधोगों को बढ़ावा की बात पर भी चर्चा की गई। जब से देश के प्रधान मंत्री का पकोड़े बनाने वालो के प्रति ब्यान आया है, तब से देश की राजनीति में भूचाल आ गया है। देश में जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ता आपको पकौड़े तलते नज़र आ जायेंगे। इस प्रोग्राम का सिर्फ इतना मक़सद है की देश में कोई नौजवान भूखा नहीं रह सकता वो अगर चाहे तो पकोड़े की रेहड़ी लगाकर अपना और अपने परिवार का पेट भर सकता है।

                                                                                     दिल्ली से जितेन्द्र शर्मा की रिपोर्ट