Live Tv

Sunday ,20 Jan 2019

गढ़वाल विश्वविद्यालय में जश्न-ए-विरासत का शानदार आगाज

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 12-2018 12:06:13pm

श्रीनगर : उत्तर भारत के सबसे बड़े नाट्य महोत्सव जश्न-ए-विरासत का गढ़वाल विश्वविद्यालय के चौरास परिसर में शानदार आगाज हो गया है। रूद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चैधरी, देवप्रयाग के विधायक विनोद कंडारी, नगर पालिका अध्यक्ष ने दीप प्रज्वलित कर इस महोत्सव का उद्घाटन किया।

 

पांच दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव में देश के बेहतरीन नाट्य संस्थान प्रतिभाग कर रहे है। नाट्य महोत्सव के पहले दिन नया थियेटर भोपाल के अन्तराष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार जीतने वाले नाटक चरणदास चोर से हुई। हबीब तनवीर द्वारा लिखित इस नाटक को 1982 मे एडिनबरा के प्रतिष्ठित नाट्य समारोह में सर्वश्रेष्ठ नाटक का पुरस्कार मिला।

 

ये पढ़े : 367 ग्राम स्मैक के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार

 

श्रीनगर मे इस नाटक को देखने के लिए लोगों मे खासा उत्साह दिखा, नाटक के मुख्य पात्र चरणदास चोर की भूमिका बाॅलीवुड कलाकार ओंकारनाथ माणिकपुरी थे। पिपली लाइव फिल्म के नत्था के पात्र से सबसे ज्यादा फेम मे आये ओंकारनाथ माणिकपुरी  दर्शकों के लिए आर्कषण का केन्द्र बने रहे जिन्होने स्वामी मन्मथन आॅडिटोरियम में आयोजित इस चरणदास चोर की भूमिका बखूबी निभाकर दर्शकों का मन मोह लिया।

 

ओंकारनाथ माणिकपुरी  ने कहा कि उनके लिए  देवभूमि उतराखंड कुछ खास है और वे यहां बार बार आना चाहते हैं। इस मौके पर रूद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चैधरी ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन युवाओं में रचनामक सोच विकसित करती है। ऐसे आयोजनों को सफल बनाने के लिए सभी का एकजुट होकर प्रयास करने चाहिए। देवप्रयाग के विधायक विनोद कंडारी ने कहा उन्होंने कहा कि रंगमंच वह स्थान है।

 

जहां से ख्याति प्राप्त लोगों ने दुनियां में अपनी पहचान बनायी है। नाट्य महोत्सव के इस मौके पर कई स्थानीय कलाकारों, फोटोग्राफरों ने अपनी अपनी चित्रकला, फोटोग्राफी की प्रदर्शनियां भी लगाई है। ये महोत्सव आगामी 5 दिनों तक चलेगा जिसमे दिल्ली के ख्याति प्राप्त अस्मिता ग्रुप समेत कई अन्य राज्यों के कलाकार भी भाग लेगें।

                                                                                                     श्रीनगर से कमल किशोर पिमोली