Live Tv

Thursday ,13 Dec 2018

निर्भया की मां पर पूर्व डीजीपी की फिसली जबान !

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 16-2018 01:56:46pm

नई दिल्ली : कितने शर्म की बात है जिस देश में देवी को पूजा जाता है उसी देश में महिलाओं को कैसे सरेआम बेज्जत किया जाता है, उस पर कैसी टिप्पणी की जाती है इसका ताजा वाक्या बंगलोर में देखने को मिला। देश को झकझोर देने वाले निर्भया कांड में एक नया विवाद खड़ा हो गया है।

 

दरसल बेंगलुरु में महिलाओं को सम्मानित करने के लिये एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में कर्नाटक के पूर्व डीजीपी एचडी संगालियान समेत तमाम महिलाएं मौजूद रही। इसी दौरान जब निर्भाया की मां को बुलाकर स्टेज पर डीजीपी सम्मानित करने लगे तो उन्होने एक ऐसा बयान दे दिया जिससे देश में एक नया विवाद खड़ा हो गया है।

 

ये पढ़े : भारत में 100% अफॉर्डेबल मेडिकल फैसिलिटी ?

 

डीजीपी सांगलियान ने निर्भया कि मां आशा पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा - 'फिजीक' (काया) बहुत ही सुंदर है और वह 'सिर्फ अंदाजा लगा सकते हैं कि निर्भया कितनी सुंदर रही होगी। 'यहीं नहीं सांगलियान ने महिलाओं को 'सुरक्षित' रहने के टिप्स भी दिए। उनके मुताबिक 'यदि महिलाओं को किसी ने काबू में कर लिया है, तो उन्हें लड़ने की बजाय सरेंडर कर देना चाहिए, इस तरह से हम सुरक्षित रह सकते हैं, जिंदगी बचाइए और मरने से बचिए।”

 

गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 की रात को दिल्ली में फिजियोथेरेपी की छात्रा के साथ चलती बस में रेप की घटना हुई थी। 13 दिन की जिंदगी से जंग लड़ने के बाद 29 दिसंबर को सिंगापुर में निर्भया की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। जिसके बाद देश में कितना बवाल मचा हुआ था। लेकिन देश में महिलाएं कितनी सुरक्षित ये किसी नहीं छिपा है।

 

बेंगलुरु आईपीएस डी रूपा भी मौजूद थीं और उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर इस कार्यक्रम से जुड़ी तस्वीरें भी शेयर की हैं। 

 

Met Nirbhaya's mother today. She spoke how the society stigmatises rape victims rather than stigmatising the culprits. It's for citizens to play active role in checking crimes against women. Ex MP, retd IPS Sangliana was present I received "Nirbhaya Award" on the occasion. pic.twitter.com/ifjeaBpnf1

— D Roopa IPS (@D_Roopa_IPS) March 9, 2018

 

                                                                                नई दिल्ली से ज्योति सिंह