Live Tv

Monday ,10 Dec 2018

मोटर पुल का उद्घाटन करने पहुंचे सीएम रावत

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 19-2018 06:46:25pm

श्रीनगर : उतराखंड के गैरसेण में उतराखंड सरकार का विधानसभा सत्र आयोजित होने जा रहा है। इससे पहले मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत समेत राज्य के तमाम कैबिनेट मंत्री व विधायक देहरादून से ही कार द्वारा पहाड़ चढने शुरू हो गये। इस बीच मुख्यमत्री त्रिवेन्द्र रावत ने ऋषिकेष-देवप्रयाग-श्रीनगर के बीच चल रहे आॅल वेदर सड़क कार्य का निरीक्षण भी किया।

 

सीएम रावत ने देवप्रयाग व बागवान व कीर्तिनगर मे स्वागत हुआ। जहां वे लोगों से भी मिले, इसके बाद श्रीनगर मे मुख्यमत्री ने 14 सालों से बन रहे चैरास मोटर पुल का उद्घाटन किया, जहां उनके साथ उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत रावत, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, वन मंत्री हरक सिंह रावत, देवप्रयाग विधायक विनोद कण्डारी, लैन्सडाउन विधायक दिलीप रावत  मौजूद रहे।

 

ये पढ़े : गदरपुर में स्वच्छता अभियान में लगा रहे है पलीता

 

14 साल से बन रहे चैरास पुल आखिरकार अपनी शुरूआती बजट के चार गुना ज्यादा की लागत से बनकर तैयार हुआ, इस पुल के दो बार गिरने मे एक इंजीनियर समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। आपको बता दें कि 2003 मे तत्कालीन सड़क परिवहन भूतल मंत्री भवन चंद्र खंडूरी का ये एक ड्रीम प्रोजेक्ट था। जो  भ्रष्टाचार की भेंट चढा और सुस्त गति से कार्य का ही नतीजा है कि इस पुल को बनने में 14 साल का समय लग गया और 11 करोड़ का पुल 14 साल बाद पुल 36 करोड़ मे बनकर तैयार हुआ।  पुल बनने से श्रीनगर और चौरास को जोडने वाले इस मोटर पुल से चैरास क्षेत्र के 25 से ज्यादा गांव और गढवाल विश्वविद्यालय के हजारों छात्र छात्राओं को लाभ मिलेगा।

 

वहीं पुल के उद्घाटन के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने  श्रीनगर मेडिकल काॅलेज के बेस अस्पताल में  ई.हैल्थ स्टूडियो का उद्घाटन डिजीटल पर्ची का शुभारभ्भ किया। उन्होने बताया कि मुख्यमत्री की जिम्मेदारी सम्भालते ही उन्होने स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाने का संकल्प लिया यही कारण है कि 1 साल मे उन्होने 36 अस्पतालों को टैली मेडीसिन सुविधा से जोड़ा है और अब अप्रैल महीने मे काॅर्डियोलाॅजी व कैन्सर डिजिटल लैब की शुरूआत सरकार करने जा रही है। 

 

वहीं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने बताया कि प्रदेश के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए सरकार 2020 तक हर सुविधा पहुंचायेगी और ग्रामीणों के लिए 10 किमी के अन्दर हर मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवायी जायेगी। साथ ही श्रीनगर मेडिकल काॅलेज को सेन्य अस्पताल बनाने पर उन्होने बताया कि 25 मार्च को खुद सेना प्रमुख विपिन रावत के साथ वे मेडिकल काॅलेज की सुविधाओं का जायजा लेगें। 

                                                                                   श्रीनगर से कमल किशोर पिमोली