×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Tuesday, 23 October 2018

राजाजी टाइगर रिजर्व पर आरोप

Reported by KNEWS | Updated: Mar 24-2018 12:30:02pm


हरिद्वार : हरिद्वार की राजाजी टाइगर रिजर्व की हरिद्वार रेेंज ​की दूधिया सेक्शन ​में गुलदार की खाल और हड्डियों के मामले में नया मोड़ आ गया है। वन महकमे के आला अधिकारियों ने राजाजी टाइगर रिजर्व के भीतर शिकार की संभावना से इनकार किया है।

 

​हालांकि वाइल्ड लाइफ डी वी एस खाती ने मौके पर मिले अवशेषों के आधार पर बड़े स्तर की जाँच कराने की बात कही है। वाइल्ड लाइफ चीफ ने मौके पर जाकर घटना स्थल पहुँचे और डॉग स्वाइड की मदद से जाँच की।

 

ये पढ़े : बदल सकता है श्रीनगर मेडिकल कॉलेज का पता

 

वाइल्ड लाइफ चीफ डीवीएस खाती ने राजाजी टाइगर रिजर्व के मोतीचूर रेन्ज में प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि मौके पर गुलदार की जो हड्डी और खाल बरामद हुई है. उसमे खाल बहुत पुरानी तथा हड्डी ताज़ी प्रतीत होती है। इस संशय से बाहर निकलने के लिए उन्होंने जाँच कराने की बात कही है जिसके लिए मिले अवशेषों को जाँच के लिए देहरादून भेज दिया गया है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा मौके पर जाँच कर रही देहरादून वन विभाग की टीम के साथ जो एनजीओ मौजूद थे।

 

उन पर भी जाँच बिठाई जाएगी क्योकि विभाग द्वारा प्रतिबंधित एनजीओ को पार्क क्षेत्र में कैसे घुसने दिया और उनसे पहले एनजीओ के पास सुचना जाना भी जाँच का विषय है। वन महकमे का मनना है कि गुलदार का शिकार राजाजी टाइगर रिजर्व में नही हुआ है इस गुलदार को किसी अन्य स्थान में मारा गया जिसके बाद साजिस के तहत इसे राजाजी की सीमा के भीतर गाड़ा गया है। उच्चाधिकारियों के अनुसार प्रारंभिक जांच में इस बात के पुख्ता सबूत मिले है।

 

इन घटना के बाद से आज आलाशिकारियो ने घटना स्थल का निरीक्षण किया। राजाजी पार्क की हरिद्वार रेंज में गुलदार हड्डी और खाल के मामले में नया मोड़ आ गया है। वाइल्ड लाइफ चीफ के जांच कराने और साजिश के बयान के बाद पार्क प्रशासन और वन महकमे में हड़कंप का माहौल है।

 

फिलहाल मौके पर मिले गुलदार के अवशेषों को देहरादून जाँच के लिए भेज दिया गया है बाकि सब फोरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद ही साफ़ हो पायेगा कि इस पुरे मामले में क्या साजिश रची गयी है।

                                                                            हरिद्वार से पुलकित शुक्ला      

                                                                                          


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे