×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Sunday, 21 October 2018

नैनीताल पहुंचे जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी

Reported by KNEWS | Updated: Mar 26-2018 09:55:55am


नैनीताल : जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी निजी दौरे पर नैनीताल पहुंचे। एक होटल में दिए साक्षात्कार में बुखारी ने अपने दिल की बात कही। राम मंदिर विवाद पर बोलते हुए जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी ने कहा कि एक पक्ष बैठने से पहले ही यह कहता है कि मेरी यह शर्त है।

 

इसपर उन्होंने अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि दूसरे पक्ष की पहले से शर्त के कारण हमें अंदाजा आ जाता है कि इस बात का कोई हल नहीं निकलेगा । उन्होंने कहा कि राजनीतिक लोगों के बजाए धार्मिक गुरुओं को बैठकर राम मंदिर का हल निकालना चाहिए।

 

ये पढ़े : उत्तराखंड क्राइम -25 मार्च 2018

 

बिना शर्त के बैठने से हल जरूर निकलेगा जिससे देश के लोगों की दूरियां भी कम होंगी। कश्मीर के देशविरोधी माहौल पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वहां भारत विरोधी नारे लगने राष्ट्र के हित में नहीं है,और ये बहुत खतरनाक है। उन्होंने कहा की दुनिया की किसी भी लड़ाई का हल बैठकर बातें करने से ही निकला है और यहां भी बैठकर ही हल निकालना चाहिए।

 

इमाम बुखारी ने केंद्र सरकार की चुटकी लेते हुए कहा कि अगर हम अफगानिस्तान से मुबारकबाद देने के लिए पाकिस्तान जा सकते हैं तो कश्मीर की बात करने के लिए वहां क्यों नहीं जा सकते। कश्मीर में भारतीय फौज के जवानों के शहीद होने को रोकने के लिए उन्होंने कहा कि भारत को पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ बैठकर इसका स्थायी हल निकालना चाहिए।

 

तीन तलाक पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि तीन तलाक का मामला केवल मुसलमानों का है और इससे मुस्लिम महिलाओं को मुश्किलें आती हैं। महिलाओं को टेलीफोन, मोबाइल, एस.एम.एस.या व्हाट्स एप पर तलाक देने से चंद मिनटों में महिलाएं सड़क पर आ जाती हैं।

 

उन्होंने कहा कि मुस्लिम महिलाओं को तलाक देने के इस सिलसिले को रोकने के लिए मुस्लिम धर्मगुरुओं को जिम्मेदारी से आगे आना चाहिए। जुल्म का ये सिलसिला बन्द होना चाहिए। कुछ मामलों में ये गलत होता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि सरकार कानून बनाकर मुसलमानों पर थोप दे।

                                             

                                                                         नैनीताल से कान्तापाल 


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे