Live Tv

Sunday ,17 Feb 2019

IAS रौतेला का प्रमोशन, कुमाऊं के बने कमिश्नर

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Apr 11-2018 03:58:41pm

देहरादून : 1 दर्जन आईएएस समेत 7 पीसीएस अधिकारियों के तबादले में सबसे बड़ा चर्चित नाम रौतेला का है। तेजतर्रार आईएएस अधिकारी राजीव रौतेला का ट्रांसफर उन्ही के गढ़  उत्तराखंड में कर दिया गया है। रौतेला को यूपी के मुख्यमंत्री योगी का चहेता भी कहा जाता है। खैर इस बार चर्चा का विषय ये है कि इस बार रौतेला को कई दिनों से प्रतिरक्षा में रखने के बाद उन्हे उत्तराखंड कुमाऊं मण्डल आयुक्त नियुक्त किया गया है।

 

बता दें कि इससे पहले गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव के बाद उन्हे डीएम पद से हटा दिया गया था। लेकिन बाद में देवीपाटन मंडल का कमिश्नर नियुक्त किया गया था। लेकिन केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय ने रौतेला को रिलीज करने के आदेश दे दिए है। वहीं चंद्रशेखर भट्ट और रमेश कुमार को प्रतिरक्षा में रखा है।

 

ये पढ़े : बदहाल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र

 

विवादों से पुराना नाता 


2013 में  अलीगढ़ डीएम के पद पर तैनात रौतेला पर शहीद जवानों का अपमान करने का आरोप लगा था। उन्‍होंने कहा था कि जवान शहीद होते हैं तो परिवार वाले विभिन्‍न मांगें रख देते हैं। सिपाही का काम देश की रक्षा करना है लेकिन सेना में उसकी केवल 12 साल की सेवा होती है। उसके बाद वो पेंशन लेता है और अगर वो ड्यूटी करते हुए अपने प्राण दे देता है तो गांव और परिवार कहता है कि जबतक नेता नहीं आएंगे, 50 लाख रुपये नहीं मिलेंगे, पेट्रोल पंप नहीं मिलेगा तब तक शव नहीं उठेगा।


साल 2017 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आइएएस राजीव रौतेला और राकेश कुमार को निलंबित करने का आदेश दिया था। दोनों पर आरोप था कि रामपुर का डीएम रहते हुए उन्‍होंने खनन को बढ़ावा दिया। लेकिन योगी सरकार ने इन्हें नहीं हटाया था


हाल ही में हुए गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव की गिनती के दौरान रौतेला ने समाचार में बताया था, जहां जिला प्रशासन ने मीडिया के लोगों को गिनती केंद्र में विवरणों तक पहुंचने से रोक दिया था।