×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Thursday, 21 June 2018

हैदराबाद मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपी बरी, कहा पर्याप्त सबूत नहीं

Reported by KNEWS | Updated: Apr 16-2018 01:10:54pm


हैदराबाद : 11 साल बाद हैदराबाद में मक्का मस्जिद मामले में कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। मस्जिद के पाइप बम विस्फोट मामले में NIA की अदालत ने असीमानंद सहित पांचो आरोपियों को केस से बरी कर दिया है। बता दें कि इस हमले में जुमे की नमाज अदा करते हुए नौ लोगों की मौत हो गई थी।

 

याद हो कि इस मामले में सीबीआई ने एक आरोपपत्र दाखिल किया। इसके बाद 2011 में सीबीआई से ये मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के पास भेजा गया। बता दें कि ब्लास्ट के बाद पुलिस ने दर्शनकारियों को रोकने के लिए हवाई फायरिंग की थी, जिसमें कई और लोग मारे गए थे। इस घटना में 160 चश्मदीद गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे लेकिन उसमें से 58 चश्मदीद अपने बयान से पलट गए थे।

 

ये पढ़े : तमिलनाडु : बुजुर्ग महिला के साथ पेंशन अधिकारी का शर्मनाक बर्ताव

 

बम धमाके के मामले में अभिनव भारत के सदस्य असीमानंद, देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा उर्फ अजय तिवारी, लक्ष्मण दास महाराज, मोहनलाल रतेश्वर और राजेंद्र चौधरी समेत 10 को एनआईए ने आरोपी बनाया था। इस केस में दो और आरोपी- रामचंद्र कालसांगरा और संदीप डांगे का भी नाम है, जो अभी भी फरार है। वहीं केस के एक मुख्य आरोपी सुनील जोशी की 29 दिसंबर 2007 को अज्ञात लोगों ने मध्य प्रदेश के देवास में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 


 

 असीमानंद को मिली थी जमानत

 

मामले के आरोपी असीमानंद को अप्रैल 2017 में कोर्ट ने इस शर्त पर जमानत दी थी कि वो हैदराबाद और सिकंदराबाद नहीं छोड़ सकते। पिछले महीने असीमानंद से जुड़े एक दस्तावेज के गायब होने की खबर आई थी।

 

मामले का खुलासा तब हुआ जब कोर्ट के सामने दस्तावेज सीबीआई के मुख्य जांच अधिकारी एसपी टी राजेश बालाजी ने देखे। हालांकि, बाद में दस्तावेज मिल गए थे। सीबीआई ने जिन चश्मदीदों की गवाही दर्ज की थी उनमें से कुछ चश्मदीद अब गवाह से पलट चुके हैं। 


पर हमसे जुड़े