Live Tv

Saturday ,15 Dec 2018

विश्व हिंदू परिषद के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों का नागरिक अभिनन्दन

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Apr 16-2018 04:41:50pm

नई दिल्ली : विश्व हिंदू परिषद के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों का सार्वजनिक अभिनंदन करने के लिए इंद्रप्रस्थ विश्व हिंदू परिषद के तत्वाधान में नई दिल्ली स्थित कांस्टिट्यूशन क्लब में आयोजित स्वागत समारोह में सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के कार्यकर्ताओं का सैलाब उमड़ पड़ा। विहिप के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों ने मंदिर मार्ग स्थित वाल्मीकि मंदिर पहुंचकर देश में आपसी भाईचारे की कामना की। इसमें नवनिर्वाचित अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे व अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार समेत अन्य पदाधिकारी शामिल थे।

 

पदाधिकारियों ने मंदिर में काफी वक्त बिताया और उस कक्ष में भी गए, जहां महात्मा गांधी ठहरा करते थे। इसके बाद सभी पदाधिकारी कनॉट प्लेस स्थित आर्य समाज मंदिर भी गए, जहां उन्होंने हवन-पूजन किया। इसके पहले सभी पदाधिकारियों ने झंडेवालान मंदिर पहुंचकर मां दुर्गा की पूजा-अर्चना की थी। विहिप सूत्रों के मुताबिक नवनिर्वाचित पदाधिकारी चांदनी चौक स्थित लाल जैन मंदिर व शीशगंज गुरुद्वारा में मत्था टेकेंगे।

 

ये पढ़े : युवाओं ने निकाला विरोध मार्च

 

उल्लेखनीय है कि हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल व राजस्थान एवं मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के जज रहे विष्णु सदाशिव कोकजे को विहिप का अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया। उन्होंने निवर्तमान अध्यक्ष राघव रेड्डी को 71 मतों से हराया था। स्वागत समारोह की अध्यक्षता पूज्य स्वामी राघवानंद जी महाराज ने की नवनिर्वाचित विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों के स्वागत समारोह को सम्बोधित करते हुए नवनिर्वाचित अध्यक्ष न्यायमूर्ति विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा कि पूरे देश में भारतीय मूल के धर्मों को एक करके हम हिंदू संस्कृति का समर्थन कर सकते हैं। हमारा लक्ष्य है भव्य राम मंदिर निर्माण गौ रक्षा और हिंदू समाज का एकीकरण।

 

जिससे हिंदू समाज अपने पूर्ण वर्ग को प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि संतों की अगुवाई में भगवान राम का भव्य मंदिर शीघ्र ही न्यायालय के आदेश अथवा कानून बनाकर शीघ्र किया जाएगा और उन्हें पूरा विश्वास है कि वह अपने दायित्व को निभाने में पूरी तरह से कामयाब रहेंगे क्योंकि आज के इस कार्यक्रम में इतनी बड़ी उपस्थिति से साफ हो जाता है कि कोई भी कार्य हिंदू समाज के लिए कठिन नहीं है। उन्होने कहा कि विश्व हिंदू परिषद अपने संक्षिप्त स्थापना के कार्यकाल में विशेष कार्य कर चुका है विश्व हिंदू परिषद की स्थापना पूज्य संत चिन्मयानन्द जी महाराज, माधव सदाशिव गोलवलकर जी, सरसंघचालक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एम मुंशी और बड़ोदरा के जयचंद्र बारिया आदि प्रमुख लोगों ने वर्ष 1964 में विश्व हिंदू परिषद की स्थापना की थी तब से अब तक लगातार हिंदू हितों के लिए कार्य किया जा रहा है।

 

नवनिर्वाचित कार्याध्यक्ष श्री आलोक कुमार जी ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण भगवान राम के जन्म स्थली राम जन्मभूमि पर शीघ्र ही किया जाएगा विश्व हिंदू परिषद का दृढ़ संकल्प है। 1964 के बाद से लगातार हिंदू समाज के हितों की रक्षा और संवर्धन में लगा हुआ है विश्व हिंदू परिषद के मूल कार्यों में राम मंदिर, गौ सेवा और भारतीय समाज का एकीकरण है। केंद्रीय महामंत्री मिलिंद पराण्डे ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद के नए पदाधिकारियों का स्वागत हिंदू समाज के सभी समुदायों के प्रमुख प्रतिनिधियों सामाजिक और धार्मिक संगठनों द्वारा जिस तत्परता उत्साह के साथ किया जा रहा है।

 

इससे यह साबित होता है कि पूरी दुनिया में हिंदू समाज एकात्म है और हमेशा रहेगा। भगवान श्रीराम का मंदिर हो या गौरक्षा का सवाल हो या हिंदू समाज के आपस में एकात्म है और रहेगा। उसमें कोई हानि नहीं पहुंचा सकता हिंदू धर्म के शत्रु अपनी मुंह की खाएंगे और हिंदू आगे बढ़ता जाएगा। स्वागत समारोह के इस अवसर पर प्रमुख केंद्रीय उपाध्यक्ष चंपतराय जी, ओम प्रकाश सिंघल, जीवेश्वर जी, राघुवल्लु जी, राजेन्द्र पंकज जी, संगठन महामंत्री विनायक राव देशपाण्डे जी, संयुक्त महामंत्री कोटेश्वर जी, सुरेन्द्र जैन जी, अशोक तिवारी जी, क्षेत्रीय संगठन मंत्री, करूणा प्रकाश जी, मनोज वर्मा, केन्द्रीय मीडिया प्रवक्ता  विजयशंकर तिवारी जी,

 

विनोद बंसल जी, सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के बृजमोहन सेठी जी इंद्रप्रस्थ विश्व हिंदू परिषद के मंत्री बचन सिंह जी, गुरदीन जी संगठनों के नाम भारत विकास परिषद धर्मयात्रा महासंघ अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महासभा अखिल भारतीय गुर्जर महासभा अखिल भारतीय रैगर महासभा अखिल भारतीय वाल्मीकि समाज वनवासी कल्याण परिषद नामधारी सिख संगत के गुरु जी समेत सैकड़ों की संख्या में उपस्थित रहे बजरंग दल के युवा कार्यकर्ता दुर्गावाहिनी की बहन स्वयंसेवक, संघ मंच संचालन श्री विनोद बंसल जी ने किया कार्यक्रम के समापन की घोषणा एवं धन्यवाद प्रस्ताव बचन सिंह ने किया।