×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Monday, 22 October 2018

आधा दर्जन गांवों में तेज बुखार और खसरे का प्रकोप जारी

Reported by KNEWS | Updated: Apr 22-2018 11:35:37am


बहराइच : बहराइच की कोतवाली देहात क्षेत्र के रहमान नगर और कटहा सहित आधा दर्जन गांवों में तेज बुखार और खसरे का प्रकोप जारी है।  24 घंटो के दौरान रहमान नगर में एक ही परिवार के तीन मासूमों की मौत हो गई है जबकि 2 दर्जन से अधिक बच्चे बीमार है जिनमें 4 बच्चों की हालत गंभीर होने पर उन्हे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है ।

 

ग्रामीण स्वास्थ्य विभाग पर सूचना देने के बावजूद उपचार न शुरू करने का आरोप लगा रहे हैं। हालांकि 3 बच्चों की मौत के बाद स्वास्थ्य महकमे की कुंभकर्णी नींद टूटी है और सीएमओ ने गांवों का दौरा कर उपचार तेज करने के निर्देश दिए हैं। तेजवापुर सीएससी क्षेत्र का रहमान नगर गांव जहां बीते एक पखवारे से तेज बुखार और खसरे का प्रकोप जारी है।

 

ये पढ़े : ऐसे में कैसे होगा सबका साथ और सबका विकास

 

ग्रामीणों का आरोप है कि सूचना देने के बावजूद स्वास्थ विभाग की टीम ने प्रभावित गांवों का दौरा करना मुनासिब नहीं समझा, जिसके चलते स्थिति विस्फोटक हो गई और बीते 24 घंटे के दौरान खसरे के प्रकोप से गांव के खलील के तीन बच्चों की मौत हो गई। बच्चों की मौत के बाद मीडिया में खबर प्रसारित होने के बाद स्वास्थ विभाग की नींद टूटी और सीएमओ ने संक्रामक रोग टीम के साथ गांव का दौरा कर उपचार शुरू कराया।

 

बीमार बच्चों के खून के नमूने लिए गए। चार बच्चों की हालत गंभीर होने पर उन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया है जहां उनका उपचार चल रहा है । ग्रामीण ही नहीं ग्राम प्रधान प्रतिनिधि भी स्वास्थ्य विभाग पर उपचार में शिथिलता का आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है सूचना देने के बावजूद स्वास्थ विभाग की टीम गांव का दौरे पर नहीं पहुंची जिसके चलते 3 बच्चों की अकाल मौत हो गई।

 

उनका कहना है कि बीमारी फैलने के बाद सीमित स्थानों पर फागिंग कराई जा रही है जबकि ग्राम पंचायत के अन्य गांवों में जहां बच्चे तेज बुखार से पीड़ित है वहां फागिंग नहीं कराई जा रही है। सीएमओ और स्वास्थ विभाग के जिम्मेदार अधिकारी इस संबंध में कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। सीएमओ छुट्टी पर जाने की बात कह रहे है।

 

सीएचसी के प्रभारी चिकित्सक डॉ0 अभिषेक अग्निहोत्री कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। दबी जुबान से वह गांव में खसरा फैलने और दर्जनों बच्चों के बीमार होने तीन की मौत होने की बात स्वीकार रहे हैं।

                                                       

                                                            बहराइच से रफिकउल्ला खान

                                                


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे