×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Wednesday, 15 August 2018

योगी : स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा

Reported by KNEWS | Updated: Apr 25-2018 04:34:26pm


लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा के जन्म शताब्दी वर्ष समारोह में विधान भवन के तिलक हाल में आयोजित कार्यक्रम में विधान सभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के साथ स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी।

 

इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री, दुग्ध विकास मंत्री लक्ष्मी नारायण चैधरी, प्राविधिक शिक्षा एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टण्डन, स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क मंत्री नन्द गोपाल ‘नन्दी’ सहित जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

 

 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि हेमवती नन्दन बहुगुणा भारत माता के महान सपूत थे। एक राष्ट्रभक्त राजनेता तथा समाजसेवी के रूप में गरीबों, शोषितों, वंचितों के लिए उनका संघर्ष अविस्मरणीय है और उनकी स्मृतियों को संजोए रखने के लिए स्मारक होना चाहिए। जन्म शताब्दी वर्ष में छात्रों, नौजवानों, मजदूरों आदि, जिनके लिए बहुगुणा जी ने संघर्ष किया, उनके बीच कार्यक्रम आयोजित किए जाने चाहिए।

 

 

ये पढ़े : योगी : बेटियों का मान सबका सम्मान

 

 

इन कार्यक्रमों से राज्य की जनता तथा प्रदेश सरकार को भी जोड़ा जाना चाहिए। बहुगुणा जी का जन्म 25 अप्रैल, 1919 को वर्तमान उत्तराखण्ड राज्य के पौड़ी गढ़वाल जनपद के एक गांव में हुआ था। आज भी वहां का मार्ग दुर्गम है। सौ वर्ष पहले ऐसी स्थिति से निकलकर राजनीति और समाजसेवा के माध्यम से देश और प्रदेश में अपना स्थान बनाना, उनके कठिन परिश्रम, लगन, कर्मठता तथा संघर्षशीलता का परिचायक है।

 

 

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए विधानसभा अध्यक्ष  हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि शक्तिशाली राष्ट्र के लिए जनमानस में इतिहास बोध आवश्यक है। महापुरूषों के जयन्ती समारोह जनसामान्य को महापुरूषों की स्मृति के माध्यम से इतिहास से परिचित कराने के साथ ही, लोगों में इतिहास बोध पैदा करने में भी सहायक सिद्ध होते हैं।

 

उन्होंने कहा कि असाधारण होकर भी साधारणजन से जुड़े रहना बहुगुणा जी की बड़ी खूबी थी। उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि श्री हेमवती नन्दन बहुगुणा जी का लखनऊ से करीबी रिश्ता था। वे पहाड़ी व मैदानी इलाकों की जनता सहित श्रमिक वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग आदि में भी काफी लोकप्रिय थे।

 

 

कर्मचारी नेताओं से उनका सान्निध्य था। जनता के प्रति समर्पण, ईमानदारी व विनम्रता उनके विशेष गुण थे। उनके गुणों के कारण विरोधी भी उनका सम्मान करते थे। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पर्यटन मंत्री एवं बहुगुणा  की पुत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि उनके पिता हेमवती नन्दन बहुगुणा का राष्ट्रप्रेम अनन्य था।

 

लोकतांत्रिक प्रणाली में उन्हें पूरा विश्वास था। बहुगुणा को एक स्वाभिमानी, न्यायी, हार न मानने वाला तथा सतत संषर्घशील व्यक्ति बताते हुए उन्होंने बहुगुणा जी से जुड़े संस्मरण भी साझा किए।

 

                                                

                                                                 नई दिल्ली से आलोक शुकला

 


पर हमसे जुड़े