×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Thursday, 21 June 2018

ये फैसला कतई ठीक नही : मौलाना खालिद राशिद फिरंगी महली

Reported by KNEWS | Updated: Apr 29-2018 10:15:11am


सीतापुर : भारत सरकार की 'एडॉप्ट ए हेरिटेज' योजना के तहत डालमिया भारत समूह ने अगले पांच साल तक के लिए एक 25 करोड़ रुपये के अनुबंध पर लाल किला को 'गोद लेने वाला' भारत के इतिहास में पहला कॉर्पोरेट हाउस बन गया है।

 

.इस पर सीतापुर में अपनी टिप्पणी करते हुए मौलाना खालिद राशिद फिरंगी महली  ने कहा कि ये फैसला कतई ठीक नही है क्योंकि लालकिला मुल्क की विरासत है इसे किसी प्राइवेट कंपनी को नही देना चाहिए।

 

ये पढ़े :  उत्तर प्रदेश क्राइम - 28 अप्रैल 2018

 

अगर इसी तरह से होता रहा तो सुन्नी वक्फ बोर्ड जो लंबे समय से ताजमहल पर दावा करता रहा है.उसका पक्ष भी इस अनुबंध के मजबूत होगा। इसीलिए जरूरी है कि सरकार को अपने इस फैसले के बारे में सोचना होगा।

 

लालकिला से हमारी आजादी का पैगाम जाता है। इसे हमारी तारीख जुड़ी है। इसलिए भी इसे प्राइवेट कंपनी को देना मुनासिब नही है। मौलाना खालिद राशिद फिरंगी महली अपने निजी काम के चलते खैराबाद पहुंचे थे।

                                                   

                                                                         सीतापुर से अबरार अली 


पर हमसे जुड़े