Live Tv

Sunday ,20 Jan 2019

छत्तीसगढ़ में मोदी ,आजादी के बाद पहले प्रधानमंत्री

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Sep 22-2018 10:33:34am

साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर छतीसगढ में चुनावी प्रचार तेजी से शुरू हो गया है.भाजपा प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी का दौरा करा रही है तो दूसरी तरफ कांग्रेस भी अपनी तैयारी में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है.छत्तीसगढ़ में कल कांग्रेस का काम बिगड़ाते हुए जहां ''जोगी की माया चली''. वही आज छत्तीसगढ़ में मोदी का वह दौरा रखा गया जहां  पर आजादी के बाद पहला कोई प्रधान मंत्री दौरा करेगा।वह दौरा छत्तीसगढ़ के जांजगीर चांपा जिले में है,जहां बताया जाता है की अभी तक कोई प्रधानमत्री यहाँ कभी नहीं आया है.प्रधानमंत्री जांजगीर के पुलिस मैदान में आयोजित किसान सम्मेलन में शिरकत करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह अटल विकास यात्रा के दूसरे चरण में शनिवार को जांजगीर चांपा पहुंच रहे हैं। पीएम मोदी मुख्यमंत्री के अटल विकास यात्रा में शामिल होंगे। पीएम के कार्यक्रम को किसान सम्मेलन का नाम दिया गया है।

इस रैली को लेकर भाजपा पूरी तैयारी की है। वही भाजपा के उच्च पदाधिकारियों का कहना है कि ,पीएम मोदी के कद के अनुरूप एक लाख की भीड़ जुटाने का लक्ष्य रखा है। बारिश के मौसम को देखते हुए सभा स्थल में 12 डोम और 25 से ज्यादा एलइडी लगाई गई है। जिसके कारण दूर बैठे लोग भी पीएम को साफ-साफ स्क्रीन से देख सकेंगे। एक डोम में बैठने की क्षमता 8 से 10 हजार लोगों की है।

बिलासपुर संभाग के अंतर्गत आने वाले जांजगीर-चांपा को कृषि के लिहाज से सबसे सम्पन्न जिला माना जाता है। यहां के किसान दो फसल लगाते  हैं। धान के उत्पादन में यह जिला अग्रणी है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस बार समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले किसानों को भुगतान के साथ ही बोनस देने की घोषणा भी की है। भाजपाई रणनीतिकारों की नजरें पीएम मोदी की सभा में जुटने वाले किसानों पर लगी हुई। भुगतान के साथ बोनस देने के एलान के बाद ऐसा माना जा रहा है कि पीएम की सभा में बड़ी संख्या में किसान शामिल होकर मुख्यमंत्री की घोषणा को हाथों हाथ लेंगे।

जांजगीर-चांपा जिले में पीएम के दौरे का अपना राजनीतिक महत्व भी है। जिले में छह विधानसभा सीटें हैं। भाजपा के नजरिए से देखें तो यह जिला पार्टी के लिए कभी निरापद नहीं रहा है। बाजी हमेशा उलट-पलट होते रहती है। वर्तमान में तीन विधानसभा सीटों पर भाजपा,दो पर कांगे्रस व एक पर बसपा का कब्जा है। पीएम के दौरे के बाद राजनीतिक परिस्थितियों में बदलाव आने की अटकलें लगाई जा रही है। भाजपा व कांग्रेस के बीच अब तक बनी बराबरी की स्थिति में पलड़ा अब भाजपा का भारी होने की संभावना भी देखी जा रही है।