×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Monday, 19 November 2018

राहुल और शिक्षकों के बीच सवांद, भगवान नहीं भागवत, जरूरत पड़ने पर एक होगा देश

Reported by KNEWS | Updated: Sep 22-2018 04:05:28pm


दिल्ली में हुए कांग्रेस अध्यछ राहुल गाँधी और शिक्षकों से साथ संवाद में राहुल गाँधी ने बीजेपी और आरएसएस पर जम कर हमला बोला। उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यछ अमित शाह का भारत को 'सोने की चिड़िया' कहने पर कहा की यह लोग भारत को एक प्रोडक्ट मानते।वही दूसरी तरफ शिक्षको से बात करते हुए उन्होंने आरएसएस पर खूब टिका टिप्पड़ी की.उन्होंने कहा कि हम आरएसएस द्वारा 'सोने की चिड़िया' पर कब्जा करने की कोशिश के खिलाफ लड़ रहे हैं.राहुल ने आरएसएस पर इल्जाम लगते हुए कहा कि,देश के सभी शिक्षण संस्थान, सुप्रीम कोर्ट, चुनाव आयोग इन सभी पर धीरे-धीरे कब्जा किया जा रहा है.

इस संवाद के बिच राहुल ने ओबामा को याद किया।अमेरिका पूर्व राष्ट्रपति ओबामा  का यह बोलना 'भारतीय इंजीनियरों से अमेरिका के लोगो की स्पर्धा है '.इसका मतलब यह है की वह हमारी तारीफ कर रहे है.जिसपे हमें गर्व होना चाहिए।वही दूसरी तरफ आरएसएस के मुखिया मोहन भगवत के बयान पर राहुल ने टिप्पड़ी करते हुए कहा की भागवत भगवान नहीं है। जब देश को एक होना होगा तो देशवासी इतना काबिल है की एक हो जायेंगे।राहुल ने कहा की बीजेपी और आरएसएस के आने से देश में केवल एक ही विचार धारा  का प्रचार हो रहा है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव के लिए बनने वाले घोषणापत्र पर इसका स्पष्ट रूप से उल्लेख होगा कि सरकार बनने के बाद प्रतिवर्ष कितना खर्च शिक्षा पर किया जाएगा.उन्होंने संवाद कार्यक्रम में कहा, 'भारत की शिक्षा व्यवस्था के बारे में किसी भी चीजों पर समझौता नहीं हो सकता. महत्वपूर्ण बात यह कि भारतीय शिक्षण व्यवस्था को अपनी राय रखने की अनुमति होनी चाहिए. गुरु वो है जो आपको दिशा देता है और आपको अभिव्यक्ति के लिए प्रोत्साहित करता है. गुरु को अपनी बात रखने का अधिकार होना चाहिए.'गांधी ने कहा, 'अगर आप चाहते हैं कि शिक्षा व्यवस्था काम करे तो उसमें सुधार होना जरूरी है. शिक्षक को महसूस होना चाहिए कि वह देश के लिए त्याग कर रहा है और बदले में देश भी उसे कुछ दे रहा है.'


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे