×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Monday, 19 November 2018

मालदीव में भारतीय समर्थन प्राप्त उम्मीदवार की भारी मतों से जीत

Reported by KNEWS | Updated: Sep 24-2018 10:13:07am


मालदीव में हुए राष्ट्रपति चुनाव में भारतीय समर्थन इब्राहीम मोहम्मद सोलिह को जीत मिली।वहां के चुनाव आयोग के मुताबिक विपक्ष के उम्मीदवार सोलिह को करीब 58.3 फीसदी वोट के साथ विजय मिली है.इन आशंकाओं के बीच कि चुनाव में गड़बड़ी हो रही है और यामीन प्रशासन अनुचित तरीकों का सहारा ले रहा है, नतीजों ने हैरान किया है.  विपक्ष को मिली इस भारी जीत के बाद चीन समर्थक माने जाने वाले निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल यामीन को पद छोड़ना होगा. 54 साल के वकील और राष्ट्रपति उम्मीदवार इब्राहीम मोहम्मद ने करीब 92 फीसदी वोटों की गणना के बाद ही बाहर आकर अपनी जीत का दावा किया था. उन्होंने कहा, 'जनता की राय सामने आ चुकी है.'

उन्होंने यामीन प्रशासन से सत्ता के सहज स्थानांतरण का अनुरोध करते हुए कहा, 'हमारे जैसे बहुत लोगों के लिए यह काफी कठिन यात्रा रही है. एक ऐसी यात्रा जो जेल की कोठरी तक या वर्षों के निर्वासन तक ले जाती है. एक ऐसी यात्रा जिसमें सार्वजनिक संस्थाओं का पूरी तरह से राजनीतिकरण और उन्हें बर्बाद किया गया. लेकिन इस यात्रा का समापन बैलेट बॉक्स के साथ हुआ, क्योंकि लोग यह चाहते थे.' 

बता दे की इब्राहीम मोहम्मद सोलिह मालदीव डेमाक्रेटिक पार्टी  के नेतृत्व वाले संयुक्त विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार थे . इस गठबंधन में जम्हूरी पार्टी, अदालत पार्टी और प्रोग्रेसिव पार्टी ऑफ मालदीव्स  का एक धड़ा शामिल है.चुनाव आयोग द्वारा सोमवार को जारी नतीजों के अनुसार सोलिह को 1,33,808 वोट और अब्दुल्ला यामीन को 95,526 वोट मिले हैं. चुनाव में अन्य कोई उम्मीदवार नहीं था, क्योंकि ज्यादातर बागी नेता या तो जेल में हैं या देश से बाहर निर्वासन में. मालदीव के 4 लाख नागरिकों में से 2.60 लाख से ज्यादा लोगों ने वोट किया था.

भारत ने इस जीत का स्वागत किया है. विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, 'हम इब्राहीम मोहम्मद सोलिह को तहे दिल से बधाई देते हैं. यह न सिर्फ मालदीव में लोकतांत्रिक ताकतों की जीत है, बल्कि वहां लोकतंत्र और कानून के शासन के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता को दिखाता है.'अमेरिका ने भी मालदीव में शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न होने के लिए वहां की जनता को बधाई दी है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीदर नाउर्ट ने कहा, 'अमेरिका मालदीव की जनता को बधाई देता है, जिन्होंने अपने देश के भविष्य के निर्धारण के लिए शांतिपूर्ण तरीके से अपनी लोकतांत्रिक आवाज उठाई है.' 

गौरतलब है कि मालदीव में लगातार विपक्ष के दमन और लोकतांत्रिक आजादी छीनने की वजह से यामीन प्रशासन की काफी आलोचना हो रही थी. उन्होंने अदालतों पर भी अंकुश लगाया था और विरोधियों को जेल में डाल दिया. इसी वजह इन चुनावों के स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से होने पर भी लोगों को संदेह था.


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे