×
Knews App Now Available for Mobile

FREE for Android and iOS.

  LIVE TV

Monday, 19 November 2018

दिवाली में दिल्ली का दम घुटा, ऐसे रहे सुरक्षित ...

Reported by KNEWS | Updated: Nov 07-2018 11:38:42am


दिल्ली: पुरे देश में एक तरफ जंहा खुशियों और त्योहारों की की रानी दिवाली की धूम मची है. लोग दिए और पठाखे जलने की तैयारी में सुभह से ही लगे है. वही राजधानी दिल्ली खुशियों के त्यौहार के दिन सां लेने में तकलीफ होने वाली है. क्योकि बुधवार को ख़राब मौषम की वजह से यहाँ की हवा बेहद गंभीर श्रेणी में पहुंच गई. जिससे राजधानी का दम घुटना लाजिमी है. बता दे की अगर बुधवार को दिल्ली के लोग पटाखे जलने से परहेज नहीं किये तो अस्थमा मरीज  और बच्चो पर इसका काफी प्रभाव पड़ेगा। 

 

वही बता दे की बुधवार को लोधी रोड इलाके में प्रदूषण का स्तर बेहद खराब रहा. यहां 2.5 का स्तर 228 (खराब) और पीएम 10 का स्तर232(ख़राब) दर्ज किया गया. पूरी दिल्ली में पीएम 2.5 का औसत 351 दर्ज किया गया. मंगलवार को दिल्ली का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स (एक्यूआई) सुबह 9 बजे 403 रहा. यह सोमवार को इसी समय 415 था, जो शाम तक 435 हो गया था. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, सुबह के समय हल्की धुंध रही, जिससे प्रदूषण के तत्व भी थे. मंगलवार को नमी में थोड़ी सी गिरावट आई.प्रदूषण पर नजर रखने वाली एजेंसियों ने कहा कि पड़ोसी राज्यों से पराली जलने से प्रदूषकों में हल्की गिरावट आई है. एयर क्वॉलिटी और मौसम पूवार्नुमान और शोध (सफर) के मुताबिक, यह स्थिति दिवाली तक रहेगी. उनका कहना है कि पटाखों के प्रदूषण में अगर कमी होती है, तो इसमें सुधार होने की संभावना है.वही इस मामले में दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने मंगलवार को दिल्लीवासियों से हरित, पटाखा-मुक्त दिवाली मनाने का आग्रह किया, क्योंकि शहर की हवा की क्वॉलिटी 'बेहद खराब' है.

 

जंहा एक बयान में उन्होंने लोगों को दिवाली की शुभकामनाएं दीं ,और वायु प्रदूषण कम करने में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा, "साल 2018 में दिल्ली के निवासियों और सरकारी एजेंसियों के संयुक्त प्रयासों के कारण बेहतर वायु गुणवत्ता वाले अधिक दिन देखने को मिले हैं। हालांकि, हमें दिवाली पर और उसके बाद भी अपने प्रयासों को सामूहिक रूप से जारी रखने की जरूरत है।"उन्होंने कहा, "मैं वायु प्रदुषण  में योगदान देने वाले सभी संबंधित लोगों से इसे कम करने की अपील करता हूं। पटाखा-मुक्त दिवाली का जश्न एक ऐसा ही कदम है, और मुझे आशा है कि दिल्ली के निवासी अपना सकारात्मक योगदान जारी रखेंगे।" 


पर हमसे जुड़े

मुख्य ख़बरे